शेयरों के जरिये कर चोरी : सेबी ने 244 इकाइयों से प्रतिबंध हटाया

भाषा | नई दिल्‍ली Sep 22, 2017 03:13 PM IST

भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने कर चोरी के लिए कथित रूप से शेयर बाजार प्लेटफॉर्म का दुरुपयोग करने के मामले में 244 इकाइयों से प्रतिबंध हटा दिया है। नियामक ने कहा कि उसे इन इकाइयों के खिलाफ किसी तरह का प्रतिकूल प्रमाण नहीं मिला है। इससे पहले इसी महीने सेबी ने चार अलग मामलों में 500 इकाइयों से प्रतिबंध हटाया था। ये मामले हैं - रेडफोर्ड ग्लोबल, पाइन एनिमेशन, फर्स्ट फाइनैंशियल के अलावा इको फ्रेडली फूड प्रोसेसिंग पार्क, एस्टीम बायो आर्गेनिक फूड प्रोसेसिंग, चैनल नाइन एंटरटेनमेंट तथा एचपीसी बायोसाइंसेज के शेयरों में कारोबार से संबंधित मामले। ये इकाइयां भी कर चोरी तथा धन शोधन गतिविधियों के लिए कथित रूप से शेयर बाजार प्लेटफॉर्म के दुरुपयोग मामले में सेबी की जांच के दायरे में थीं। मौजूदा मामले में सेबी ने मार्च, 2016 में 246 इकाइयों पर अगले आदेश तक बाजार में कारोबार की रोक लगाई थी।

नियामक ने कैलाश ऑटो फाइनेंस के शेयरों में जनवरी, 2013 से दिसंबर, 2015 तक असामान्य उतार-चढ़ाव के लिए अपनी शुरुआती जांच के बाद यह प्रतिबंध लगाया था। इसके बाद जून, 2016 से जुलाई, 2017 के दौरान इन इकाइयों के खिलाफ पांच पुष्ट आदेश पारित किए गए। नियामक ने प्रथम दृष्टया पाया कि कैलाश ऑटो ग्रुप से संबंधित विभिन्न इकाइयों ने सेबी के धोखाधड़ी एवं अनुचित व्यापार व्यवहार निषेध नियमों का उल्लंधन किया। अंतरिम आदेश के बाद सेबी ने इस मामले की विस्तृत जांच की। जांच पूरी होने के बाद नियामक ने कहा कि उसे इन इकाइयों के संदर्भ में किसी तरह का प्रतिकूल प्रमाण नहीं मिला। इसी के मद्देनजर सेबी ने 244 इकाइयों से प्रतिबंध हटाने का आदेश दिया है।

कीवर्ड कर चोरी, सेबी, प्रतिबंध, दुरुपयोग, कर चोरी, धन शोधन, धोखाधड़ी,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक