ढंग से नहीं मन पाई वाहन कंपनियों की दीवाली

सोहिनी दास और शुभम पाराशर | अहमदाबाद/मुंबई Nov 01, 2017 10:31 PM IST

अक्टूबर में 2.75 से 2.80 लाख वाहन बिकने की संभावना
सितंबर में यात्री वाहनों की बिक्री को त्योहारी रफ्तार मिली थी लेकिन दीवाली के महीने अक्टूबर में उसकी रफ्तार सुस्त पड़ गई। वाहन कंपनियों से प्राप्त आंकड़ों से पता चलता है कि अक्टूबर 2016 के मुकाबले इस महीने बिक्री में बढ़त स्थिर रही। अक्टूबर 2016 में दीवाली और दशहरा दोनों त्योहार उसी महीने थे। कार बनाने वाली देश की सबसे बड़ी कंपनी मारुति सुजूकी ने अक्टूबर 2017 में अपने यात्री वाहनों की बिक्री में 9.3 फीसदी की वृद्धि दर्ज की जबकि यात्री वाहन क्षेत्र की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी ने अपने थोक बिक्री आंकड़े में 0.8 फीसदी की गिरावट दर्ज की है।

महिंद्रा ऐंड महिंद्रा (एमऐंडएम) और होंडा कार्स इंडिया जैसी अन्य कंपनियों की बिक्री में इस त्योहारी महीने के दौरान गिरावट दर्ज की गई। अक्टूबर में एमऐंडएम की बिक्री में 5 फीसदी और होंडा कार्स इंडिया की बिक्री में 8.5 फीसदी की गिरावट रही।

कई नए मॉडलों पर सवार टाटा मोटर्स ने यात्री वाहन श्रेणी की बिक्री में पिछले साल अक्टूबर में 28 फीसदी की वृद्धि दर्ज की थी लेकिन इस साल उसका आंकड़ा स्थिर रहा। इसके मुकाबले टोयोटा का प्रदर्शन अच्छा रहा। हाल में उतारी गई सीमित संस्करण वाली इटियॉस क्रॉस एक्स-एडिशन और फॉर्च्यूनर टीआरडी स्पोर्टिवो पर सवार कंपनी ने अक्टूबर में अपनी बिक्री में 6.45 फीसदी की वृद्धि दर्ज की। त्योहारी सीजन में सबसे कमजोर प्रदर्शन अमेरिकी कार कंपनी फोर्ड इंडिया का रहा। अक्टूबर में फोर्ड इंडिया की बिक्री में 44 फीसदी की जबरदस्त गिरावट दर्ज की गई।

अक्टूबर 2016 को इस मामले में आधार महीना माना गया है, लेकिन उस दौरान न केवल दो त्योहारों का फायदा मिला था बल्कि दिल्ली एवं राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र में डीजल पर प्रतिबंध हटने और सातवें वेतन आयोग के भुगतान के कारण दमदार ग्राहक धारणा से भी बिक्री को बल मिला था। इक्रा के वरिष्ठï उपाध्यक्ष (समूह) सुब्रत राय ने कहा कि कई मूल उपकरण विनिर्माताओं (ओईएम) ने सितंबर में त्योहारी मांग के लिए स्टॉक बढ़ाया था। उन्होंने कहा, 'इसलिए अक्टूबर के थोक आंकड़ों में थोड़ी नरमी दिखी। हमें वाहनों की मांग की सही तस्वीर देखने के लिए सितंबर और अक्टूबर दोनों महीने के आंकड़ों को संयुक्त रूप से देखना होगा।'

हुंडई मोटर इंडिया के निदेशक (बिक्री एवं विपणन) राकेश श्रीवास्तव ने कहा, 'हुंडई ने 50,000 से अधिक वाहनों की खुदरा बिक्री की जो किसी एक त्योहारी महीने में उसकी सर्वाधिक बिक्री है। जबकि इस दौरान थोक बिक्री 49,588 वाहनों की हुई।' सितंबर 2017 में यात्री वाहनों की बिक्री पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 11.3 फीसदी बढ़कर 3,09,955 वाहन हो गई। उम्मीद की जा रही है कि अक्टूबर 2017 में यह आंकड़ा 2,75,000 से 2,80,000 वाहनों का रहेगा जो अक्टूबर 2016 में हुई 2,80,677 वाहनों की बिक्री के मुकाबले लगभग स्थिर है।

मारुति के लोकप्रिय मॉडल ऑल्टो और वैगनआर की मांग में 4.2 फीसदी की गिरावट रही जबकि स्विफ्ट, रिट्ïज, सेलेरियो, इग्निस, बलेनो, डिजायर और टूर एस जैसे वाहनों की श्रेणी में मांग में 24.7 फीसदी का इजाफा हुआ। लेकिन महीने के दौरान यूवी श्रेणी में सबसे अधिक 29.8 फीसदी की बढ़त रही। टाटा मोटर्स ने अपने यात्री वाहनों की बिक्री में अक्टूबर 2016 के मुकाबले महज 1 फीसदी की वृद्धि दर्ज की। जापान की प्रमुख कंपनी होंडा कार्स की बिक्री अक्टूबर में 8.5 फीसदी घट गई। महिंद्रा ऐंड महिंद्रा की सितंबर और अक्टूबर की संयुक्त बिक्री में बढ़त रही। जबकि फोर्ड की बिक्री में 43.8 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई।

पिछले महीने वाणिज्यिक वाहन क्षेत्र का प्रदर्शन यात्री वाहन के मुकाबले बेहतर रहा और तीन कंपनियों टाटा मोटर्स, महिंद्रा ऐंड महिंद्रा और अशोक लीलैंड ने कुल मिलाकर सकारात्मक बढ़त दर्ज की। मध्यम व भारी वाणिज्यिक वाहन क्षेत्र का प्रदर्शन अच्छा रहा और इस क्षेत्र में टाटा मोटर्स ने साल दर साल के हिसाब से 8 फीसदी और महिंद्रा ऐंड महिंद्रा ने 59 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की। टाटा ने पिकअप में भी मजबूत मांग दर्ज की।
कीवर्ड वाहन बिक्री, यात्री वाहन, त्योहारी मांग, दीवाली, दशहरा, मारुति सुजूकी, महिंद्रा ऐंड महिंद्रा,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक