नकदी जुटा रही जेएसडब्ल्यू स्टील

देव चटर्जी | मुंबई Nov 16, 2017 09:55 PM IST

सज्ज्जन जिंदल के मालिकाना हक वाली जेएसडब्ल्यू स्टील दबाव वाली परिसंपत्तियां खरीदने के मामले में सबसे आक्रामक बोलीदाता के तौर पर उभरी है और कंपनी की नजर 99 लाख अतिरिक्त क्षमता की खरीद पर है। इससे कंपनी अपनी निकटतम प्रतिस्पर्धी टाटा स्टील के और करीब पहुंच सकती है। बैंंकिंग सूत्रों ने कहा, अगर कंपनी चारों कंपनियों के लिए बोली जीतती है तो इसके लिए कंपनी को बड़ी रकम की दरकार होगी, जो 60,000 करोड़ रुपये के अतिरिक्त कर्ज का ब्याज चुका सके।
 
जेएसडब्ल्यू स्टील अगले महीने भूषण स्टील, भूषण स्टील ऐंड पावर, मोनेट इस्पात और जेपी इन्फ्राटेक के लिए बोली लगाने की योजना बना रही है। इन चारो कंपनियों पर बैंकों की कुल देनदारी करीब 1,09,103 करोड़ रुपये है और वे ऋण अदा नहीं कर पा रही हैं। बैंकिंग सूत्रों ने बताया कि लेनदार कम से कम 50 फीसदी की रियायत दे सकते हैं ताकि जेएसडब्ल्यू जैसे बोलीदाताओं के लिए इन परिसंपत्तियों का अधिग्रहण आसान रहे।
 
जेएसडब्ल्यू के पास फिलहाल 43,334 करोड़ रुपये के ऋण और 2,433 करोड़ रुपये की नकदी एवं निवेश मौजूद है। प्रबंध निदेशक एवं सीईओ शेषशायी राव ने कहा कि कंपनी इन परिसंपत्तियों के अधिग्रहण के बावजूद अपना ऋण बनाम इक्विटी अनुपात 1.62 गुना और शुद्ध ऋण बनाम एबिटा अनुपात को 3.66 गुना बरकरार रखना चाहती है। उन्होंने कहा, 'हम खुद को अधिक हल्का नहीं करना चाहते हैं। इसलिए हम अन्य निजी इक्विटी फंड से बातचीत कर रहे हैं और सभी कंपनियों का आकलन कर रहे हैं।'
 
कंपनी अतिरिक्त इक्विटी के लिए जापान की जेएफई से भी बातचीत कर रही है और इसके लिए उसका विकल्प खुला है। ऋण जुटाने के लिए जेएसडब्ल्यू स्टील तमाम विकल्पों पर विचार कर रही है। इसी क्रम में वह एओन कैपिटल जैसी कंपनियों से मोनेट इस्पात के लिए और भूषण स्टील के लिए पीरामल बेन क्रेडिट कैपिटल से बातचीत कर रही है। भूषण और मोनेट की परिसंपत्ति जेएसडब्ल्यू के लिए बिल्कुल अनुकूल है क्योंकि पूर्वी भारत में फिलहाल उसकी कोई मौजूदगी नहीं है।
 
जेपी इन्फ्राटेक के रियल एस्टेट कारोबार के लिए बोली लगाने के उद्देश्य से समूह ने जयप्रकाश एसोसिएट्स से भी हाथ मिलाया है। हालांकि यह गठजोड़  जेपी इन्फ्राटेक के ग्राहकों द्वारा सर्वोच्च न्यायालय में जारी सुनवाई पर निर्भर करेगा। जेपी के रियल एस्टेट ग्राहकों ने कंपनी के खिलाफ मुकदमा दायर की है और वे जेपी इन्फ्राटेक से अपनी रकम वापस मांग रहे हैं। विश्लेषकों का कहना है कि इस साल जनवरी के बाद जेएसडब्ल्यू स्टील के बाजार मूल्य में 59 फीसदी की वृद्धि हुई है जिससे उसे रकम जुटाने में मदद मिलेगी। गुरुवार को जेएसडब्ल्यू का बाजार मूल्य 62,557 करोड़ रुपये हो गया जो टाटा स्टील के बाजार मूल्य 66,688 करोड़ रुपये के करीब है।
 
एक बैंकर ने कहा, 'भूषण स्टील के लिए बोली की जंग दिलचस्प होगी क्योंकिनकदी संपन्न वेदांत और टाटा स्टील दोनों कंपनी में दिलचस्पी दिखा रही हैं।' उन्होंने कहा कि एक अन्य बोलीदाता है आर्सेलरमित्तल जो विदेश से सस्ता ऋण लेकर खेल बिगाड़ सकती है। उन्होंने कहा, 'निश्चित तौर पर जेएसडब्ल्यू के लिए भूषण स्टील की परिसंपत्तियां हासिल करना आसान नहीं रहेगा।'
कीवर्ड JSW जेएसडब्ल्यू स्टील,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक