डिस्काउंट नहीं नवाचार होगा मंत्र

करन चौधरी | नई दिल्ली Jan 08, 2018 09:48 PM IST

फ्लिपकार्ट के मुख्य डेटा रणनीतिकार मयूर दातार चाहते हैं कि उनकी कंपनी का ऐप उपयोगकर्ता की हरेक जरूरत को समझने में सक्षम हो। चाहे खरीदारी एक पेन की हो या रेफ्रिजरेटर की, दातार चाहते हैं कि उनका ऐप सभी तरह की जानकारी के आंकड़े उपलब्ध कराए, जैसे व्यक्ति को खरीदारी के लिए कितने ऋण की जरूरत होगी आदि। यह एक ऐसा नया विचार है जिसे दातार इस साल अमल में लाना चाहते हैं।  यह स्पष्टï है कि भारत में तेजी से परिपक्व हो रहा ई-कॉमर्स सेगमेंट डिस्काउंट के साथ साथ अब अधिक गतिशील और स्वीकार्य खरीदारी अनुभव मुहैया कराने की दिशा में बढ़ रहा है। फ्लिपकार्ट, उसकी सबसे बड़ी प्रतिस्पर्धी एमेजॉन और पेटीएम मॉल अपनी तकनीकी समझ बढ़ाने की कोशिश कर रही हैं, अपने आर्टीफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) और मशीन लर्निंग (एमएल) प्लेटफॉर्म को मजबूत और भविष्य के लिहाज से अनुकूल बना रही हैं।
 
उद्योग के जानकारों के अनुसार एआई और एमएल पर 2018 में तीनों कंपनियों द्वारा लगभग 2.5 अरब डॉलर का खर्च किया जा सकता है। जहां एमेजॉन इंडिया अपने अमेरिकी भागीदार की मदद से पहले से ही प्रेसीजन एनालिटिक्स, एआई और एमएल के क्षेत्र में काफी सक्रिय है, वहीं फ्लिपकार्ट सिलीकन वैली में कंपनियों के अधिग्रहण करने के साथ साथ अपने भारत-केंद्रित एआई और एमएल प्लेटफॉर्म के साथ एमेजॉन के मुकाबले बढ़त बनाने के लिए सॉफ्टवेयर कंपनी माइक्रोसॉफ्ट, प्रौद्योगिकी कंपनी टेंसेंट के अलावा अपने सबसे बड़े निवेश सॉफ्टबैंक गु्रप साथ मिलकर काम कर रही है। 
 
भारत में सॉफ्टबैंक का अन्य प्रमुख निवेश पेटीएम मॉल है जो बढ़त बनाने के लिए प्रौद्योगिकी दिग्गज अलीबाबा गु्रप के साथ साथ कनाडा स्थित डेटा साइंस टीम पर निर्भर है।  दातार का मानना है कि अगली बड़ी लड़ाई एआई, एमएल को लेकर होगी और साथ ही इसे लेकर भी प्रतिस्पर्ध रहेगी कि ज्यादा से ज्यादा ग्राहकों को किस तरह से जोड़ा जाए। दातार ने कहा, 'हमारा मानना है कि वर्ष 2018 और 2019 ऐसे वर्ष होंगे जिनमें हम ग्राहकों के समक्ष पैदा होने वाली विभिन्न समस्याओं के समाधान के लिए एआई, एमएल और डेटा का इस्तेमाल करेंगे। इस तरह का कुछ बदलाव फ्लिपकार्ट में आंतरिक तौर पर दिख रहा है। मेरा मानना है कि यह एआई बनाम एआई मुकाबला होने जा रहा है।'
 
फ्लिपकार्ट इन्वेंट्री, क्रेडिट मॉडलिंग के नियोजन में सुधार लाने में एआई और एमएल को बड़े पैमाने पर शामिल कर रही है। इन प्रणालियों का इस्तेमाल ग्राहकों की जरूरतों और खरीदारी क्षमता का आकलन करने के लिए किया जाएगा जिससे कि उन्हें उनकी क्षमता के अनुसार ऋण दिया जा सके। इसी को ध्यान में रखकर ऐप के डिजाइन में बदलाव किया जा रहा है। एमेजॉन इंडिया एआई-आधारित ऐसे सॉल्युशन तैयार कर रही है जो स्पीच रिकॉग्नीशन, नैचुरल लेंग्वेज अंडरस्टैंडिंग, क्विश्चन आंसरिंग, डायलॉग सिस्टम, प्रोडक्ट रीकमेंडेशन, प्रोडक्ट सर्च से संबंधित चुनौतियों को दूर कर सकें।
 
एमेजॉन में मशीन लर्निंग के निदेशक राजीव रस्तोगी कहते हैं, 'हम अपनी डिलिवरी सेवा में दक्षता लाने के लिए भी एआई और एमएल का इस्तेमाल करते हैं। अपने पोर्टल पर विक्रेताओं को सशक्त बनाने के लिए हम उन उत्पादों की तलाश के लिए एआई का इस्तेमाल करते हैं जिनकी त्यौहारों या छुट्टिïयों के दौरान अच्छी बिक्री दर्ज की गई हो और ऐसे कारकों के आधार पर ऐसे श्रेष्ठï उत्पाद और सौदे सुझाए जाते हैं जो ग्राहकों को आकर्षित कर सकें। 
कीवर्ड e commerce, फ्लिपकार्ट,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक