शेयरों पर लगे दीर्घावधि पूंजीगत लाभ कर

बीएस संवाददाता | नई दिल्ली Jan 10, 2018 10:01 PM IST

देश के अर्थशास्त्रियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सुझाव दिया है कि शेयरों पर लंबी अवधि के पूंजीगत लाभ कर में छूट को खत्म किया जाए और इन पर दूसरी संपत्तियों की तरह कर लगाया जाना चाहिए। 40 से अधिक आर्थिक विशेषज्ञों ने प्रधानमंत्री को किसानों की आय बढ़ाने और रोजगार के अवसर पैदा करने के बारे में भी सुझाव दिए। यह बैठक आज नीति आयोग की पहल पर हुई। बैठक में प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद के सदस्यों के अलावा प्रमुख अर्थशास्त्री और विशेषज्ञ भी मौजूद थे।
 
बैठक में सभी ने आम राय से किसानों की आय बढ़ाने के उपाय करने पर जोर दिया। बाद में नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने पत्रकारों को बताया कि कई विशेषज्ञों ने सुझाव दिया कि कृषि उत्पादन के बजाय किसानों की आय बढ़ाने पर जोर होना चाहिए। इसके लिए उत्पादकता बढ़ाने, लागत कम करने, बाजार तक पहुंच बढ़ाने और जिंसों के बजाय उत्पादों के उत्पादक बनाने पर ध्यान देना जरूरी है। बैठक में शिक्षित बेरोजगारी की समस्या पर चिंता प्रकट की गई और कहा गया कि लोगों के शिक्षित होने के साथ ही उनकी महत्त्वाकांक्षा बढ़ती है लिहाजा उनको रोजगार दिए जाने की ज्यादा जरूरत है। बैठक में रोजगार के लिए अप्रेंटिसशिप को महत्वपूर्ण माना गया। राजीव कुमार ने कहा कि नीति आयोग ने एक कार्यबल बनाया है। आयोग नियमित आधार पर रोजगार के आंकड़ों की निगरानी करता है। उन्होंने बताया कि समीक्षा बैठक में डॉक्टरों समेत सभी ने एक स्वर में राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग बनाने का समर्थन किया। प्रधानमंत्री ने अर्थव्यवस्था की हालत, कृषि और ग्रामीण विकास, रोजगार, शिक्षा और स्वास्थ्य, विनिर्माण और निर्यात, शहरी विकास तथा बुनियादी ढांचे पर विभिन्न विशेषज्ञों से राय ली। बैठक में वित्त मंत्री अरुण जेटली समेत कई केंद्रीय मंत्री भी मौजूद थे। 
कीवर्ड share, market, sensex, बीएसई, कंपनी, शेयर,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक