शेयर बाजार में पूरी नहीं हुई है गिरावट : फंड मैनेजर

चंदन किशोर कांत | मुंबई Feb 06, 2018 09:56 PM IST

देसी इक्विटी फंड मैनेजरों का मानना है कि हालिया बिकवाली जारी रह सकती है और वे बेंचमार्क निफ्टी के 10,000 से नीचे जाने की संभावना से इनकार नहीं कर रहे हैं। पिछले एक साल में बाजार में बड़ी गिरावट के दौरान ज्यादातर फंड मैनेजर आक्रामक खरीदार के तौर पर उभरे हैं। हालांकि इस बार मामला अलग हो सकता है। पिछले हफ्ते सर्वोच्च स्तर से पहुंचे बेंचमार्क सेंसेक्स में छह फीसदी की गिरावट के बावजूद फंड मैनेजर आक्रामक तौर पर खरीदारी से पहले निचले स्तर का इंतजार करना चाहेंगे।
 
एक वरिष्ठ फंड मैनेजर ने कहा, अमेरिकी बॉन्ड प्रतिफल में तीव्र बढ़ोतरी गंभीर मसला है। इसने इक्विटी में लागत का ढांचा बदल दिया है। 10 वर्षीय अमेरिकी ट्रेजरी नोट करीब तीन फीसदी पर है, लिहाजा इक्विटी बाजार बुरे दौर की ओर बढ़ रहा है। बिजनेस स्टैंडर्ड ने इस बारे में कई अग्रणी फंड मैनेजरों से बातचीत की। फंड मैनेजरों ने कहा कि ताजा गिरावट इक्विटी निवेशकों के धैर्य की परीक्षा लेगा। एक अन्य फंड मैनेजर ने कहा, कुछ निवेशक शायद अपनी रकम निकालना चाहते हैं। साथ ही लाभांश और लंबी अवधि के लाभ पर नया कर आगामी निवेश पर असर डाल सकता है। हमें निवेश निकासी के दबाव के लिए तैयार रहना होगा। यह हमारी आक्रामक खरीदारी की क्षमता को पहले के मुकाबले सीमित कर देगा। तीव्र गिरावट के बावजूद निवेश विशेषज्ञों ने कहा कि मूल्यांकन अभी भी आकर्षक क्षेत्र में नहीं पहुंचा है। 
 
एक बड़े फंड हाउस के मुख्य निवेश अधिकारी ने कहा, जनवरी में तीव्र बढ़ोतरी के बाद मूल्यांकन महंगा हो गया था। बाजार को गिरावट की वजह चाहिए थी, जो बजट के कर प्रस्ताव और वैश्विक गिरावट ने दे दी। यह समय पास की नकदी झोंकने का नहीं है। चुनिंदा शेयर की खरीदारी का मौका हमेशा रहता है, लेकिन मेरा मानना है कि निफ्टी यहां से 8-10 फीसदी और टूट सकता है। मौजूदा गिरावट के दौर में जो शेयर खरीद की रेडार पर हैं उनमें आईसीआईसीआई बैंक, एलऐंडटी, टाटा मोटर्स, ऐक्सिस बैंक और महिंद्रा ऐंड महिंद्रा शामिल हैं। कुछ फंड मैनेजरों ने सन फार्मा व डॉ. रेड्डीज जैसे टूटे शेयरों पर दांव लगाया है। फंड मैनेजरों ने कहा कि बड़ी व एकमुश्त रकम लगाने से पहले निवेशकों को बाजार में स्थिरता का इंतजार करना चाहिए। उन्होंने कहा, अभी ज्यादा खरीदारी का समय नहीं है, अगर उनके निवेश का नजरिया तीन साल से कम अवधि का हो।
कीवर्ड share, market, sensex, बीएसई, कंपनी, शेयर,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक