दुनिया भर के बाजारों में बिकवाली से 4 लाख करोड़ डॉलर स्वाहा

रॉयटर्स | लंदन Feb 06, 2018 09:56 PM IST

दुनिया भर के शेयर बाजार मंगलवार को लगातार चौथे दिन टूटे और आठ दिन पहले के रिकॉर्ड उच्च मूल्यांकन से 4 लाख करोड़ रुपये स्वाहा हो गए। यूरोप के मुख्य एक्सचेंज करीब 2 फीसदी टूटे, जिससे निवेशकों के पास पारंपरिक परिसंपत्तियों मसलन सोने की ओर बढऩे का विकल्प रहा। इस बिकवाली की मुख्य वजह बेंचमार्क सरकारी बॉन्ड रहे। वॉल स्ट्रीट फ्यूचर्स में थोड़ी रोशनी नजर आई क्योंकि यूरोप में ये ऊंचे नजर आए, लेकिन जिंस की हालत फीकी रही और तेल व औद्योगिक धातुएं फिसल गईं क्योंकि बाजार के लिए साल की शानदार शुरुआत तेजी से फिसली।

 
वॉल स्ट्रीट का डाउ जोन्स और एसऐंडपी 500 बेंचमार्क सोमवार को 4.6 फीसदी व 4.1 फीसदी फिसले थे, जो अगस्त 2011 के बाद की सबसे बड़ी गिरावट है। शुद्ध रूप से अंकों के आधार पर भी यह डाउ की सबसे बड़ी गिरावट रही और साल 2018 में इसे लाल निशान में पहुंचा दिया। यूरोप की गिरावट ने क्षेत्र के स्टॉक्स-600 को भी छह महीने के निचले स्तर पर धकेल दिया।  एमएससीआई में एशिया प्रशांत का शेयर सूचकांक (जापान से बाहर) 3.4 फीसदी टूटा। ताइवान का मुख्य सूचकांक 5.0 फीसदी टूटा, जो 2011 के बाद की सबसे बड़ी गिरावट है और हॉन्ग-कॉन्ग का हेंग सेंग इंडेक्स 4.2 फीसदी फिसला। जापान का निक्केई 4.7 फीसदी टूटा और चार महीने के निचले स्तर पर आ गया। बिकवाली की मूल वजह अमेरिकी बॉन्ड के प्रतिफल में हुई तीव्र बढ़ोतरी है। प्रतिफल में इजाफे ने उच्च महंगाई और ब्याज दरों में संभावित बढ़ोतरी की चेतावनी दी।
कीवर्ड share, market, sensex, बीएसई, कंपनी, शेयर,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक