क्रिप्टोकरेंसी का क.. ख.. ग..

सोमेश झा |  Feb 13, 2018 09:51 PM IST

क्या है क्रिप्टोकरेंसी

बिटकॉइन की तरह सभी आभासी मुद्राएं (क्रिप्टोकरेंसी) डिजिटल मुद्राएं हैं। इनका कोई वास्तविक स्वरूप नहीं होता लेकिन कुछ मामलों में इनकी तुलना सोने से की जा सकती है। सोने की तरह ही आभासी मुद्राओं की भी माइनिंग होती है। इनको जारी करने के लिए कोई केंद्रीय संस्था नहीं है, इसलिए इन पर किसी एक संस्था या देश का नियंत्रण नहीं है। आसान शब्दों में, इनके लिए कोई भी ऐसा केंद्रीय बैंक नहीं है जो यह निर्धारित करे कि कब और कितनी मात्रा में आभासी मुद्राएं बाजार में लाई जाएं।

 
कैसे शुरू हुई
 
ब्लॉकचेन तकनीक का लाभ उठाने के उद्देशय से वर्ष 2009 से आभासी मुद्राएं अस्तित्व में आना शुरू हुईं। ब्लॉकचेन एक वैश्विक विकेन्द्रीकृत खाताबही होती है, जिसमें प्रत्येक आभासी मुद्रा के लेनदेन का रिकॉर्ड रहता है। इसमें पूरे डाटाबेस की एक प्रतिलिपी होती है, जिसे कोई भी उपयोगकर्ता देख सकता है। फाइनेंशियल टाइम्स डेली की एक रिपोर्ट के अनुसार क्रिप्टोकरेंसी के लिए ब्लॉकचेन कुछ इसी तरह है जैसे ई-मेल के लिए इंटरनेट।
 
क्या है बिटकॉइन
 
आज लगभग 1300 से अधिक आभासी मुद्राएं बाजार में हैं, जिनमें बिटकॉइन सबसे पुरानी, सबसे प्रसिद्ध और क्रिप्टोकरेंसी बाजार में सबसे अधिक हिस्सेदारी वाली आभासी मुद्रा है। वर्ष 2008 में एक छद्म नाम सतोशी नाकोमोतो के व्यक्ति (या व्यक्तियों का समूह) ने 'बिटकॉइन: पीर-टू-पीर इलेक्ट्रॉनिक कैश सिस्टम' नाम से एक श्वेत पत्र जारी किया था। इसका उद्देश्य था कि बिना किसी वित्तीय संस्थान की भागीदारी के ऑनलाइन भुगतान सीधे एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुंच जाए।
 
क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज क्या हैं
 
क्रिप्टोकरेंसी एक्सचटेंज एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जो आपको विभिन्न आभासी मुद्राओं को एक दूसरे में बदलने और वास्तविक धन (रुपया, डॉलर आदि) से आभासी मुद्रा खरीदने की सुविधा देता है। इन पर खाता बनाने के बाद एक्सचेंज आपके लिए एक डिजिटल वॉलेट बनाता है जिसमें आपकी सभी क्रिप्टोकरेंसी रखी जाती हैं। भारत में जेबपे, कॉइनेक्स, यूनोकॉइन, कॉइनडेल्टा, कॉइनसिक्योर आदि प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज हैं।
कीवर्ड bitcoin, money, currency,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक