ईटीएफ के लिए आंकड़े लेना जारी रखेगा एमएससीआई : एनएसई

बीएस संवाददाता | मुंबई Feb 22, 2018 09:54 PM IST

नैशनल स्टॉक एक्सचेंंज (एनएसई) ने वैश्विक सूचकांक प्रदाताओं को आंकड़े मुहैया कराना जारी रखने की योजना बनाई है, जिसमें एमएससीआई भी शामिल है। इसका मकसद विदेशी निवेशकों को भारतीय बाजार में एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ईटीएफ) के माध्यम से कारोबार का मौका प्रदान करना है।  बाजार के हिस्सेदारों के बीच इस बात को लेकर चिंता थी कि क्या घरेलू एक्सचेंज सूचकांक प्रदाताओं को आंकड़े मुहैया कराएगा, जिससे कि भारतीय प्रतिभूतियों या सूचकांक के आधार पर एक सूचक बनाया जा सके, जहां भारतीय प्रतिभूतियों का अधिभार 25 प्रतिशत से ज्यादा है। एनएसई के मुख्य कार्याधिकारी विक्रम लिमये ने कहा, 'एमएससीआई आंकड़े लेना जारी रखेगी क्योंकि इसका इस्तेमाल भारतीय डेरिवेटिव्स का विदेश में कारोबार के लिए नहीं होता है।'  उन्होंने कहा कि विदेश में नकदी बनाने को लेकर चिंता रही है, कुछ व्यवस्थाएं भारतीय बाजारों के लिए दीर्घावधि के हिसाब से बेहतर नहीं थीं। 
 
लिमये ने निर्यातकों की लॉबी एशिया सिक्योरिटीज इंडस्ट्री ऐंंड फाइनैंशियल मार्केट्स एसोसिएशन के सम्मेलन में यह कहा। फरवरी में भारतीय एक्सचेंजों ने संयुक्त रूप से घोषणा की थी कि वे सूचकांक बनाने के लिए सूचकांक प्रदाताओं को बाजार के आंकड़े मुहैया कराना बंद कर देंगे।  बाजार के जानकारों ने कहा कि इस अधिसूचना के शब्द कुछ अस्पष्टता पैदा करते हैं कि क्या एक्सचेंज एमएससीआई इंडिया जैसे सूचकों को आंकड़े मुहैया कराएंगे, जो विदेशी निवेशकोंं में लोकप्रिय सूचकांक है।  एक्सचेंंज के एक अधिकारी ने कहा, 'एमएससीआई इंडिया के आधार पर एक्सचेंज, ईटीएफ के लिए आंकड़े मुहैया कराएंगे। बहरहाल ऑफशोर डेरिवेटिव्स ट्रेडिंग भी एमएससीआई इंडिया इंडेक्स मेंं हिस्सा लेते हैं। स्टॉक मूल्य के आंकड़े का इस्तेमाल इसके लिए नहीं हो सकता।'
कीवर्ड share, market, sensex, बीएसई, कंपनी, शेयर,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक