ढाका एक्सचेंज का हिस्सा खरीदने की दौड़ में एनएसई

पवन बुरुगुला | मुंबई Mar 22, 2018 09:22 PM IST

नैशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) ढाका स्टॉक एक्सचेंज की 25 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने की दौड़ में वापस आ गया है क्योंकि बांग्लादेश के बाजार नियामक ने चीन के एक्सचेंजों के कंसोर्टियम का आवेदन खारिज कर दिया। सूत्रों ने कहा, बांग्लादेश सिक्योरिटीज ऐंड एक्सचेंज कमीशन (बीएसईसी) की तरफ से चीन के एक्सचेंजों का आवेदन खारिज किए जाने के बाद दोबारा बोली आमंत्रित की जा सकती है और इस बोली में एनएसई हिस्सा लेने की योजना बना रहा है। ढाका स्टॉक एक्सचेंज की हिस्सेदारी बिक्री प्रतिष्ठा का विषय बन गया है क्योंंकि भारत और चीन सरकार इस सौदे के जरिए बांग्लादेश में अपने कूटनीतिक प्रभाव में इजाफा करने की कोशिश कर रही हैं।
 
बोली की कीमत के लिहाज से चीन व एनएसई की बोली में बहुत अंतर नहीं है क्योंकि चीन के कंसोर्टियम ने 25 फीसदी हिस्सेदारी के लिए 11.9 करोड़ डॉलर की पेशकश की है जबकि एनएसई ने 8.7 करोड़ डॉलर की बोली लगाई है। दूसरे शब्दों में चीनी कंसोर्टियम इसके लिए 30 फीसदी प्रीमियम देने का इच्छुक था जबकि एनएसई 25 फीसदी प्रीमियम की पेशकश कर रहा था। हालांकि भारतीय एक्सचेंज अतिरिक्त पेशकश के चलते चीन के हाथों मात खा गया। सूत्रों ने कहा कि चीनी कंसोर्टियम ने ढाका स्टॉक एक्सचेंज को 10 साल के लिए मुफ्त में तकनीकी सहायता की पेशकश की, जिसकी लागत करीब 3.6 करोड़ डॉलर अतिरिक्त बैठती है। दूसरी ओर एनएसई ने तकनीकी सहायता की पेशकश नहीं की। सूत्रों ने कहा कि इस सौदे के लिए और छूट की खातिर एनएसई भारत सरकार से संपर्क कर सकता है। उदाहरण के लिए कानूनी विशेषज्ञों ने कहा कि चीन की सरकार उच्च कूटनीतिक महत्व वाले सौदों के लिए कई कर छूट की पेशकश करती है। दूसरी ओर भारतीय नीतिगत ढांचा अपेक्षाकृत सख्त है।
कीवर्ड dhaka, share, market, sensex, बीएसई, कंपनी, शेयर,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक