अमेरिका में 50 करोड़ डॉलर निवेश करेगी जेएसडब्ल्यू स्टील

अदिति दिवेकर | मुंबई Mar 26, 2018 10:11 PM IST

सज्जन जिंदल की अगुआई वाली जेएसडब्ल्यू स्टील टैक्सस (अमेरिका) में प्लेट व पाइप बनाने वाले मिल की क्षमता इस्तेमाल में सुधार के लिए 50 करोड़ डॉलर तक निवेश करेगी। यह घोषणा ऐसे समय में हुई है जब अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने कनाडा व मैक्सिको को छोड़कर बाकी देशों से स्टील आयात पर 25 फीसदी शुल्क लगाने का आदेश जारी किया है। इसका इरादा देसी उद्योग को मजबूत बनाना और अमेरिकी नागरिकों के रोजगार को सुरक्षित करना है। एक ट्वीट में सज्जन जिंदल ने अमेरिकी कदम का स्वागत किया था।
 
जेएसडब्ल्यू स्टील की इकाई जेएसडब्ल्यू स्टील (यूएस) इंक ने आज टैक्सस के गवर्नर के साथ सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर किए, जो टैक्सस में स्टील उद्योग को विकसित करने व इसकी क्षमता बढ़ाने के लिए है। इसके तहत टैक्सस के गवर्नर ग्रेग ऐबट ने अपने टैक्सस एंटरप्राइज फंड से स्टील कंपनी को 34 लाख डॉलर के अनुदान को भी मंजूरी दी। यहां आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में जेएसडब्ल्यू स्टील (यूएस) के निदेशक पार्थ जिंदल ने कहा, इस करार से जेएसडब्ल्यू यूएसए की पहुंच मितव्ययी कीमत पर प्राकृतिक संसाधनों तक हो जाएगी और टैक्सस में स्क्रैप स्टील की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित होगी, जिससे इलेक्ट्रिक आर्क फर्नेस के जरिए विनिर्माण के लिए स्थितियां अनुकूल हो जाएगी।
 
अभी यहां 30 फीसदी से कम क्षमता का इस्तेमाल होता है और जिंदल की योजना इस संयंत्र की क्षमता का इस्तेमाल अगले 24 महीने में तीन गुना बढ़ाकर इसे 10 लाख टन करने की है। टैक्सस के गवर्नर ने कहा, अमेरिकी संयंत्र में अतिरिक्त निवेश से 500 नए रोजगार का सृजन होगा और इनका औसत वेतन 65,000 डॉलर होगा। यह घोषणा ऐसे समय में हुई है जब अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने कनाडा व मैक्सिको को छोड़कर बाकी देशों से स्टील आयात पर 25 फीसदी शुल्क लगाने का आदेश जारी किया है। इसका इरादा देसी उद्योग को मजबूत बनाना और अमेरिकी नागरिकों के रोजगार सुरक्षित करना है। एक ट्वीट में सज्जन जिंदल ने अमेरिकी कदम का स्वागत किया था।
 
50 करोड़ डॉलर के कुल निवेश में से कंपनी 15 करोड़ डॉलर का निवेश इकाई की क्षमता बढ़ाने में करेगी, जिस पर पहले से ही काम चल रहा है। पूंजीगत खर्च का कार्यक्रम मार्च 2020 तक पूरा होने की संभावना है। बाकी निवेश का इस्तेमाल स्टील मेल्ट ऐंड मैन्युफैक्चर सुविधा पर किया जाएगा, जो मंजूरी पर निर्भर करेगा। सज्जन जिंदल ने 10 लाख टन क्षमता वाली प्लेट्स व पाइप मिल का अधिग्रहण साल 2007 में 1.2 अरब डॉलर में किया था। इसके अधिग्रहण के बाद साल 2008 के वैश्विक आर्थिक संकट के चलते संयंत्र की यात्रा मुश्किल भरी रही। हालांकि संयंत्र में इस्तेमाल स्टील का आयात मैक्सिको, ब्राजील व भारत से किया गया।
 
अमेरिकी संयंत्र पर निवेश ऐसे समय हो रहा है जब राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने ट्रेड एक्पेंशन ऐक्ट 1962 की धारा 232 के तहत आयातित स्टील पर टैरिफ लगा दिया है। पार्थ जिंदल ने कहा, हम इस परियोजना के लिए सरकार से धारा 232 से छूट मांगने पर विचार कर रहे हैं। हमारा विचार इस संयंत्र को एकीकृत करने का है, जो अमेरिका में स्टील विनिर्माण को पटरी पर ले आएगा। ऐबट ने हालांकि स्पष्ट किया कि आयात का दरवाजा पूरी तरह से बंद करने की अमेरिकी सरकार की योजना नहींं है, हालांकि यह देश टैरिफ लगाकर स्टील व एल्युमीनियम के आयात पर सख्ती बरत रहा है। पार्थ ने कहा, जेएसडब्ल्यू स्टील यूएस का बढ़ा उत्पादन मैक्सिको, लैटिन अमेरिका की मांग पूरी करेगा।
कीवर्ड america, JSW, steel,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक