'रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल के संरक्षण का इंतजाम करे सरकार'

अभिषेक रक्षित |  Apr 01, 2018 09:01 PM IST

बीएस बातचीत

बिनानी सीमेंट के अधिग्रहण का मामला एनसीएलटी के कोलकाता पीठ में है और जिसके लिए डालमिया भारत सीमेंट और अल्ट्राटेक सीमेंट ने बोली लगाई है। डालमिया भारत सीमेंट के ग्रुप सीईओ महेंद्र सिंघी ने अभिषेक रक्षित को दिए साक्षात्कार में बताया कि बिनानी सीमेंट उनके लिए इतनी अहम क्यों है। साथ ही उम्मीद जताई कि रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल के संरक्षण के लिए सरकार दंडात्मक व्यवस्था करेगी ताकि उन्हें अनावश्यक रूप से परेशान नहीं किया जा सके। पेश हैं बातचीत के मुख्य अंश...

एनसीएलटी के कोलकाता पीठ में 14 याचिकाओं के चलते बिनानी सीमेंट के अधिग्रहण की योजना को पूरा होने में वक्त लगने वाला है। क्या आपको लगता है कि निपटान के लिए यह मामला सर्वोच्च न्यायालय पहुंचेगा?

एनसीएलटी में अगली सुनवाई 2 अप्रैल को होनी है और रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल की तरफ से जमा कराई गई समाधान योजना पर मंजूरी में एक हफ्ते या इससे ज्यादा का वक्त लगेगा। तब यह याची पर निर्भर करेगा कि वह मामले को ऊपरी अदालत में ले जाते हैं या नहीं। कानून स्पष्ट है, जो कहता है कि आईबीसी के तहत संदर्भित मामले को एनसीएलटी के दायरे से बाहर नहीं ले जाया जा सकता है और आईबीसी के दायरे से बाहर इसका निपटान भी नहीं हो सकता। अगर यह मामला सर्वोच्च न्यायालय जाता है तो भी मेरा मानना है कि इसका जल्द समाधान निकलेगा। हमारा मामला पूरी तरह से मजबूत कानूनी स्थिति पर निर्भर है।

बिनानी सीमेंट का अधिग्रहण आपके लिए इतना अहम क्यों है?

बिनानी सीमेंट का अधिग्रहण हमें पूरे उत्तर भारत के बाजार (गुजरात समेत) तक पहुंचा देगा और डालमिया भारत को देशव्यापी सीमेंट विनिर्माता बनाने में मदद करेगा। अभी हमारी एकीकृत उत्पादन क्षमता 2.7 करोड़ टन है। मुरली सीमेंट के अधिग्रहण से इसमें 30 लाख टन की बढ़ोतरी हुई और कल्याणपुर सीमेंट के अधिग्रहण से क्षमता में 10 लाख टन का और इजाफा हुआ। अभी बिनानी सीमेंट के अधिग्रहण से हमारी कुल क्षमता बढ़कर 4.2 करोड़ टन हो जाएगी और हमें चीन व दुबई जैसे बाजारों तक भी पहुंचा देगी।

बिनानी सीमेंट के अधिग्रहण से आप अंतरराष्ट्रीय बाजार पहुंच जाएंगे और आपका परिचालन वैश्विक बाजार में अभी नहीं है। अंतरराष्ट्रीय परिचालन के लिए आपकी क्या योजना है?

अभी हमारी कोई अंतरराष्ट्रीय योजना नहीं है, लेकिन जब अधिग्रहण हो जाएगा तब हम इस पर फैसला लेंगे कि इन परिसंपत्तियों का कैसे बेहतर इस्तेमाल किया जा सकता है।

बिनानी सीमेंट के अधिग्रहण के लिए रकम का इंतजाम किस तरह करने की योजना है?

हमने पीरामल-बेन कैपिटल के साथ साझेदारी की है, जहां दोनों की समान हिस्सेदारी होगी। अधिग्रहण के लिए दोनों इक्विटी लेंगे और बाकी का इंतजाम बैंकों से होगा। मैं अभी कह सकता हूं कि इसमें ऋण व इक्विटी का सही मिश्रण होगा। लेनदारों की समिति ने इन योजनाओं को मंजूर कर लिया है।

आप बिनानी सीमेंट का कायापलट कब तक कर पाएंगे?

इसमें एक या दो साल लगेंगे। हमारा प्रदर्शन मानक उद्योग में सबसे अच्छे में एक है और एबिटा प्रति टन समकक्ष कंपनियों के बीच सबसे ज्यादा है। साथ ही दबाव वाली परिसंपत्तियों को सुधारने के मामले में हमारा ट्रैक रिकॉर्ड अच्छा है।

परिचालन से जुड़े लेनदारों ने आरोप लगाए हैं कि समाधान योजना में उन के हितों का ध्यान नहीं रखा गया। आपकी प्रतिक्रिया?

लेनदारों की समिति और रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल से मिली सूचना के आधार पर हमने बोली लगाई और चूंकि हमारी योजना मंजूर हो गई है लिहाजा हम ऐसे ज्यादातर परिचालन लेनदारों को संतुष्ट करने में सक्षम हैं। दबाव वाली परिसंपत्तियों की बिक्री में हर किसी को संतुष्ट नहीं किया जा सकते। दबाव वाली परिसंपत्तियों में सुधार से कई परिचालक लेनदारों को अपना कारोबार बढ़ाने के लिए मौके सृजित होंगे।

क्या बिनानी सीमेंट का मामला भविष्य में रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल की भूमिका को प्रभावित करेगा?

जब रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल मामला हाथ में लेते हैं तो निलंबित प्रवर्तक व बोर्ड असहज महसूस करना शुरू करते हैं और वे रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल में खामियां खोजने की कोशिश करते हैं। जब परिसंपत्ति एनपीए बन जाती है तो यह सही नहीं है कि कंपनी को निर्देशित करने वाले प्रबंधन के चलते ही ऐसा हुआ। जब रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल मामले को हाथ में लेते हैं और कुप्रबंधन का मामला सामने आता है (जिसकी वजह से यह एनपीए बना) तो प्रवर्तक अपनी गलतियां छुपाने के लिए आरोप लगाना शुरू कर देते हैं। मुझे लगता है कि रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल को कुछ हद तक बलि का बकरा बनाया गया है। एक ओर वे अच्छा काम कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर ट्रिब्यूनल में उनकी साख पर सवाल उठाए गए। मुझे लगता है कि सरकार व ट्रिब्यूनल को ऐसी चीजों पर सही दिशानिर्देश सामने रखना चाहिए। दंडात्मक व्यवस्था भी होनी चाहिए ताकि रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल को अनाïवश्यक तौर पर परेशान न किया जा सके।
कीवर्ड binani, cement, NCLT,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक