आर्सेलरमित्तल व न्यूमेटल ने रखा अपना पक्ष, आज भी होगी सुनवाई

विनय उमरजी | अहमदाबाद Apr 04, 2018 09:48 PM IST

रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल, लेनदारों की समिति और आर्सेलरमित्तल के वकीलों ने बुधवार को नैशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल के अहमदाबाद पीठ में एस्सार स्टील के लिए दूसरे दौर की बोली का अनुरोध किया। अगली सुनवाई 5 अप्रैल को होगी और रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल के कानूनी वकील डेरियस खंबाटा दलील पेश करेंगे, जिसके बाद तीनों पक्षकारों अहमदाबाद पीठ से अपील की है कि बोली खोलने की अनुमति दी जाए। अनुरोध इस पृष्ठभूमि में किया गया है कि दिवालिया प्रक्रिया की 270 दिन की अवधि 29 अप्रैल को समाप्त हो रही है। 

 
खंबाटा के साथ लेनदारों की समिति के वरिष्ठ ïवकील रवि कदम और आर्सेलरमित्तल के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने अनिल अग्रवाल की वेदांत, एलएन मित्तल की आर्सेलरमित्तल और वीटीबी बैंक के मालिकाना हक वाली न्यूमेटल (जेएसडब्ल्यू स्टील के साथ मिलकर) की तरफ से लगाई गई दूसरे बार की बोली खोलने की अनुमति देने की मांग की। बुधवार को दो सदस्यों की पीठ ने न्यूमेटल व आर्सेलरमित्तल की तरफ से दाखिल की गई कई याचिकाओं व काउंटर एफिडेविट पर तर्क सुना। न्यूमेटल व आर्सेलरमित्तल ने 12 फरवरी 2018 को सौंपी गई पहले दौर की बोली को पात्रता के आधार पर चुनौती दी थी।
 
अपनी दलील में खंबाटा ने कहा कि अगर हम न्यूमेटल की शेयरधारिता को नजरअंदाज करेें तो इसके शेयरधारकों की हैसियत पर भरोसा नहीं किया जा सकता। खंबाटा न्यूमेटल के पहले के अनुरोध की पृष्ठभूमि में तर्क दे रहे थे जिसमें इसकी शेयरधारिता को नजरअंदाज किया गया था। बोली की पात्रता के लिए न्यूमेटल ऑरोरा एंटरप्राइजेज लिमिटेड समेत अपने शेयरधारकों की हैसियत पर दांव लगा रही है, जिसके पास 25 फीसदी हिस्सेदारी है। न्यूमेटल का प्रतिनिधित्व करते हुए वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी व जनक द्वारकादास ने तर्क दिया कि बोली में भागीदारी से पहले डिफॉल्ट करने वाली कंपनियों उत्तम गैल्वा व केएसएस पेट्रोन की हिस्सेदारी बेचकर आर्सेलरमित्तल खुद को दोषमुक्त नहीं बता सकती। एस्सार की बोली के पात्र होने के लिए इसे कर्ज चुकाना था। न्यूमेटल ने भी तर्क दिया कि केएसएस ग्लोबल के जरिए केएसएस पेट्रोन की 26 फीसदी हिस्सेदारी से इसके पास डिफॉल्टर कंपनी का नियंत्रण था, ऐसे में इसे दिवालिया संहिता की धारा 29 ए के तहत अयोग्य घोषित किया जाना चाहिए।
कीवर्ड arcelor mittal steel, NCLT,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक