गड़बड़ी करने वाले सीए व सीएस पर लगेगा जुर्माना

भाषा |  Apr 08, 2018 09:26 PM IST

सूचीबद्ध कंपनियों के साथ अपने कामकाज में किसी भी तरह की गड़बड़ी या लापरवाही बरतने पर चार्टर्ड अकाउंटेंट (सीए), कंपनी सचिव (सीएस) और मूल्यांकनकर्ताओं पर बाजार नियामक सेबी जुर्माना लगा सकता है। इसके साथ ही कंपनी से उनकी फीस को भी नियामक जब्त कर सकता है। एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने बताया कि सेबी इस तरह की धोखाधड़ी पर नजर रखने के लिए अपने निगरानी तंत्र का विस्तार कर रहा है। पीएनबी और फोर्टिस जैसे हालिया मामलों में ऑडिटरों व मूल्यांकनकर्ताओं की भूमिका पर सवाल उठा है। सेबी इस तरह के घपलों पर लगाम लगाने के लिए निगरानी प्रक्रिया को मजबूत बनाने पर विचार कर रहा है। इस तरह की इकाइयां यदि अपने कामकाज में गड़बड़ी करती हैं और उसमें कमी रहती है तो सेबी उनकी गलत कार्यों से प्राप्त संपत्ति, फीस को डिफॉल्ट की तिथि से उस पर 12 फीसदी सालाना ब्याज के साथ पूरी राशि को वापस ले सकती है। 

 
करीब 40 सीए रिजर्व बैंक के जांच दायरे में फंसे कर्ज मामले में रिजर्व बैंक की कार्रवाई के चलते तीन दर्जन से अधिक सीए जांच के घेरे में हैं। उन पर प्रवर्तकों के साथ मिलकर बैंकों के कर्ज भुगतान में धोखाधड़ी करने और दबाव वाली संपत्ति का पुनर्गठन करने में मदद का आरोप है। ऐसे समय जब काफी संख्या में दबाव वाली कंपनियां ऋण शोधन एवं दिवालिया संहिता के अंतर्गत आ रही हैं, केंद्रीय बैंक ऐसी इकाइयों से जुड़े प्रमुख लोगों की भूमिका पर भी गौर कर रहा है। सूत्रों ने बताया कि रिजर्व बैंक विभिन्न कंपनियों द्वारा लिए गए कर्ज के फंसने के मामलों में 35 से 40 सीए की भूमिका पर गौर कर रहा है।
कीवर्ड CA, CS, sebi,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक