ज्योति स्ट्रक्चर्स का ऋण समाधान जल्द पूरा होने के आसार

अद्वैत राव पलेपू | मुंबई Apr 09, 2018 10:05 PM IST

फंसे कर्ज से जुड़े 12 बड़े परिसंपत्ति खातों में से एक ज्योति स्ट्रक्चर्स लिमिटेड (जेएसएल) की ऋण समाधान योजना अगले कुछ सप्ताहों के अंदर पूरी हो सकती है। जेएसएल पर ऋणदाताओं का 70 अरब रुपये का बकाया है। समाधान योजना 6 अप्रैल को सौंपी गई थी और खबरों के अनुसार 81 प्रतिशत ऋणदाताओं ने इस योजना पर सहमति जता दी है।  सूत्रों का कहना है कि नैशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी), मुंबई पीठ 18 अप्रैल को इस मामले की सुनवाई करेगा, लेकिन इस बीच रिजोल्यूशन प्रोफेशनल (आरपी) को सुरक्षा एजेंसी के लिए भुगतान से संबंधित मुद्दे निपटाने होंगे। 
 
बीएसई को सोमवार की शाम दी गई जानकारी में आरपी ने कहा कि उन्हें मंजूरी के लिए जरूरी बहुलांश वोट प्राप्त हुए हैं।  भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) इस मामले में प्रमुख बैंक है और इसमें भारी कटौती की जाएगी।  जेएसएल को सबसे पहले 4 जुलाई को दिवालिया प्रक्रिया की कार्यवाही के लिए स्वीकार किया गया था और इनसॉल्वेंसी ऐंड बैंगक्रप्टसी कोड (आईबीसी) के तहत 270 दिन की समय-सीमा 2 अप्रैल को समाप्त हो गई है। रिजोल्यूशन प्रोफेशनल ने कंपनियों के ऋणदाताओं से न्यूनतम 75 प्रतिशत मंजूरियों के लिए पिछले सप्ताह एनसीएलटी से अतिरिक्त समय की अनुमति मांगी थी। 
 
शुरू में समाधान योजना को 26 मार्च को ऑनलाइन मतदान के लिए रखा गया था, लेकिन बकाएदारों की समिति (सीओसी) के सिर्फ 66 प्रतिशत मत ही मिले।  जेएसएल को नेटमैजिक सॉल्युशंस के पूर्व प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्याधिकारी शरद सांघी के नेतृत्व में अमीर निवेशकों के समूह से ही बोली मिली।  बोली पर सीओसी द्वारा विचार किया जा रहा है। सीओसी में जेएसएल में शुरू में 1.7 अरब रुपये लगाने वाले निवेशक शामिल हैं।  फिलहाल यह देखना महत्त्वपूर्ण होगा कि क्या सीओसी द्वारा 75 प्रतिशत की न्यूनतम सीमा से ऊपर मत दिए जाने के बाद भी इसे एनसीएलटी द्वारा स्वीकार किया जाएगा या नहीं, क्योंकि 270 दिन की समय-सीमा समाप्त हो चुकी है। इस मामले में एनसीएलटी मुंबई पीठ का निर्णय धीमी प्रक्रिया के संदर्भ में एक मिसाल तैयार करेगा, खासकर फंसे कर्ज से संबंधित अन्य खातों के आईऐंडबीसी और एनसीएलटी के जरिये समाधान के लिए समय-सीमा को ध्यान में रखकर। 
कीवर्ड jyoti, loan, debt, JSL,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक