'अशोक लीलैंड बाजार के विकास को लेकर उत्साहित'

गिरीश बाबू | चेन्नई Apr 18, 2018 09:46 PM IST

वाणिज्यिक वाहन निर्माता अशोक लीलैंड ने कहा है कि वह इन्फ्रास्ट्रक्चर पर जोर दिए जाने, बीएस-6 मानकों के क्रियान्वयन से पहले अच्छी बिक्री और पुराने वाहनों को हटाने की नीति को देखते हुए अगले कुछ वर्षों में बाजार की विकास संभावनाओं को लेकर उत्साहित है। कंपनी ने बुधवार को कहा कि वह इस वित्त वर्ष में लगभग 1,000 करोड़ रुपये का निवेश करेगी जिसमें ज्यादातर निवेश इलेक्ट्रिक वाहनों और रक्षा सेगमेंट पर किया जाएगा। अशोक लीलैंड के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्याधिकारी विनोद दसारी ने कंपनी के सालाना वैश्विक सम्मेलन 2018 में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा, 'मेरा मानना है कि बाजार अगले कुछ वर्षों के लिए बेहद सकारात्मक है।' इस सम्मेलन में कंपनी ने इस साल के लिए अपने आगामी उत्पादों को प्रदर्शित किया। कंपनी का राजस्व पिछले वित्त वर्ष में 25 फीसदी बढ़कर 150 अरब रुपये हो जाने का अनुमान है।

 
यह साल इन्फ्रास्ट्रक्चर में सुधार की वजह से मजबूत दिख रहा है और उसके बाद का वर्ष बीएस-6 से पूर्व की खरीदारी वाला वर्ष होगा। उसके बाद के वर्ष में यूरो-4 की वजह से कुछ सुस्ती देखी जा सकती है, पर उस वर्ष में स्क्रैपेज नीति (पुराने वाहनों को हटाने) लागू हो जाएगी। उन्होंने कहा, 'यदि आप सिर्फ 15 साल पुराने वाहन प्रतिबंधित करते हैं तो ऐसे वाहनों की तादाद 7,00,000 होगी जिनकी मांग दो वर्ष के लिए रहेगी।' कंपनी दक्षिणी बाजार में सुस्ती के बावजूद पिछले साल बाजार भागीदारी 34 प्रतिशत पर बरकरार रखने में सफल रही। इससे संकेत मिलता है कि कंपनी अपने पिछले रिकॉर्ड के विपरीत देश के अन्य हिस्सों में भी अपनी पैठ बढ़ाने में कामयाब रही है। कंपनी का रक्षा व्यवसाय पिछले साल के 5 अरब रुपये से बढ़कर इस साल 8 अरब रुपये का हो जाने का अनुमान है। 
कीवर्ड ashok leyland, vehicle,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक