भारती एयरटेल में भरोसा कायम

पुनीत वाधवा | नई दिल्ली Apr 25, 2018 09:46 PM IST

शेयर बाजार में आज भारती एयरटेल के शेयरों पर सकारात्मक प्रभाव दिखा। जनवरी से मार्च तिमाही के दमदार वित्तीय नतीजे और भारती इन्फ्राटेन एवं इंडस टावर के विलय से विश्व की सबसे बड़ी गैर-चीनी दूरसंचार टावर कंपनी की स्थापना जैसी खबरों से निवेशकों का भरोसा बढ़ा। इसके अलावा भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) के कीमत बिगाडऩे वाले आदेश पर दूरसंचार विवादन निपटान एवं अपीलीय ट्रिब्यूनल (टीडीसैट) द्वारा रोक लगाए जाने से भी निवेशक उत्साहित हुए। बंबई स्टॉक एक्सचेंज पर कंपनी का शेयर आज 3.4 फीसदी बढ़त के साथ 420 रुपये पर बंद हुआ। इसके मुकाबले एसऐंडपी बीएसई सेंसेक्स 0.3 फीसदी गिरावट के साथ 34,501 अंक पर बंद हुआ। जबकि एसऐंडपी बीएसई दूरसंचार सूचकांक 0.7 फीसदी बढ़त के साथ 1,332 अंक पर बंद हुआ।
 
हालांकि कंपनी ने पिछले वर्षों में सबसे कम तिमाही मुनाफा दर्ज किया है, लेकिन विश्लेषकों का कहना है कि उसका प्रदर्शन उम्मीद से कहीं अधिक बेहतर रहा। भारती एयरटेल ने कल बाजार बंद होने के बाद अपने वित्तीय नतीजे जारी किए और उसमें बताया गया कि रिलायंस जियो की कम दरों और अंतरराष्टï्रीय टर्मिनेशन दरों में कमी से उसे झटका लगा। इक्विनॉमिक्स रिसर्च के प्रबंध निदेशक जी चोकालिंगम ने कहा, 'कमजोर (वित्तीय) प्रदर्शन कम से कम एक साल तक जारी रहने के आसार हैं। भारत में मोबाइल की पहुंच फिलहाल अपने चरम पर दिख रही है, डेटा श्रेणी में मूल्य से प्राप्तियां काफी कम हो गईं हैं और वॉइस श्रेणी में तमाम मैसेजिंग ऐप के कारण प्रतिस्पर्धा काफी बढ़ गई है। इससे मध्यम अवधि में मार्जिन में सुधार की सीमित गुंजाइश दिख रही है। हालांकि डेटा श्रेणी में सुधार होगा लेकिन रिलायंस जियो से प्रतिस्पर्धा बरकरार रहेगी।'
 
हालांकि विश्लेषकों का मानना है कि प्रतिस्पर्धा बढऩे के बावजूद कंपनी का शेयर लंबी अवधि के लिहाज से बेहतर प्रदर्शन करेगा। उदाहरण के लिए नोमुरा ने 505 रुपये के लक्षित मूल्य के साथ इस शेयर की रेटिंग 'बाय' बरकरार रखा है। ऐस इक्विटी के आंकड़ों के अनुसार, कैलेंडर वर्ष 2018 में दूरसंचार क्षेत्र के अधिकतर शेयरों का प्रदर्शन कमजोर रहा और उनमें 50 फीसदी तक की गिरावट दर्ज की गई। जबकि एसऐंडपी बीएसई सेंसेक्स में उस दौरान करीब 1.7 फीसदी रही। जबकि एसऐंडपी बीएसई दूरसंचार सूचकांक में करीब 21 फीसदी की गिरावट आई। इस दौरान दोनों सूचकांकों पर एयरटेल का प्रदर्शन कमजोर रहा और उसके शेयर में करीब 23 फीसदी की गिरावट आई। आईडीबीआई कैपिटल के अनुसंधान प्रमुख एके प्रभाकर का मानना है कि एक साल के लिहाज से दूरसंचार शेयरों का कमजोर प्रदर्शन जारी रहेगा और एयरटेल के शेयर में आई तेजी तात्कालिक है।
कीवर्ड bharti airtel, share, market, sensex, बीएसई, कंपनी, शेयर,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक