एमेजॉन पांच नए गोदाम बनाएगी

अलनूर पीरमोहम्मद | बेंगलूरु Apr 26, 2018 09:55 PM IST

एमेजॉन लगातार देशभर में अपने गोदाम बना रही है। कंपनी ने 5 नए गोदाम बनाने की घोषणा की है। ये गोदाम अगले 6 महीनों में बनकर तैयार हो जाएंगे।  कंपनी ने यह फैसला ऐसे समय किया है, जब देश में ई-कॉमर्स कंपनियों के लिए लॉजिस्टिक और गोदाम सबसे महत्त्वपूर्ण निवेेश बनता जा रहा है। ये गोदाम बेंगलूरु, मुंबई, दिल्ली, विजयवाड़ा और कोलकाता में बनाए जाएंगे। ये एमेजॉन के मुख्य ई-कॉमर्स कारोबार में मददगार बनेंगे। ये गोदाम बनने के बाद कंपनी के देश में स्थिति गोदामों की संख्या बढ़कर 67 हो जाएगी। 

 
एमेजॉन ने 2018 में अपनी भंडारण क्षमता पिछले वर्ष की तुलना में 150 फीसदी बढ़ाने की योजना बनाई है, जिसमें ये पांच नए गोदाम भी कुछ योगदान देंगे।  एमेजॉन इंडिया के उपाध्यक्ष (ग्राहक आपूर्ति) अखिल सक्सेना ने कहा, 'हम अपने विक्रेताओं की खातिर अपनी भंडारण और प्रोसेसिंग क्षमता बढ़ाने के लिए लगातार निवेश कर रहे हैं ताकि हम बड़ी मात्रा में सामान की डिलिवरी कर सकें।' उन्होंने कहा, 'इस साल की शुरुआत में हमने अपने एमेजॉन नाऊ कारोबार के लिए 15 नए गोदाम खोलने की घोषणा की थी।'
 
नए गोदामों के बनने से एमेजॉन भारत की सबसे बड़ी गोदाम स्थान प्रदाता का दर्जा बनाए रख पाएगी। नए गोदाम एमेजॉन के औसत गोदामों की तुलना में बड़े होंगे। लेकिन ये उतने भी बड़े नहीं होंगे, जितना उसका हैदराबाद स्थित गोदाम है। यह गोदाम 4 लाख वर्ग फुट में फैला हुआ है। हालांकि वे खुदरा विक्रेताओं के लिए कुल भंडारण क्षमता को 1.6 करोड़ घन फुट से बढ़ाकर 2 करोड़ घन फुट कर देंगे।  गोदाम और भंडारण स्थान में बढ़ोतरी के साथ ही कंपनी डाउनस्ट्रीम लॉजिस्टिक क्षमता में भी इजाफा कर रही है। अब कंपनी के देशभर में 200 डिलिवरी स्टेशन हैं। हालांकि ये भारत में कंपनी के सबसे बड़े बाजारों के लिए हैं। एमेजॉन ने उन सेवा प्रदाताओं से भी साझेदारी की है, जो अंतिम मील डिलिवरी के लिए उत्पादों का स्टॉक कर सकें। कंपनी के 320 शहरों में ऐसे 350 गोदाम हैं। 
 
सक्सेना ने कहा, 'अब हमारे पास भंडारण स्थान बढ़कर 50 लाख वर्ग फुट हो जाएगा, जो पिछले साल 35 लाख वर्ग फुट था। हम इसी विस्तार के बारे में बात कर रहे हैं और हम ये निवेश अपने विक्रेताओं और ग्राहकों के लिए कर रहे हैं।' उन्होंने कहा, 'इससे साफ तौर पर हमें अपने प्राइम ग्राहकों को तेजी से डिलिवरी करने में मदद मिलेगी क्योंकि ज्यादातर सामान का ग्राहकों के ठिकाने के आसपास स्टॉक किया जाएगा।' जहां एमेजॉन छोटे गोदामों बना रही है, वहीं फ्लिपकार्ट कम मगर बड़े गोदामों का नेटवर्क बनाने की योजना तैयार कर रही है। फ्लिपकार्ट ने मार्च में कहा था कि बेंगलूरु के बाहर इलाके में 100 एकड़ जमीन खरीदने की योजना बना रही है, जहां एक बड़ा लॉजिस्टिक पार्क बनाया जाएगा। यह पार्क एमेजॉन के अमेरिका और अन्य बाजारों में 10 लाख वर्ग फुट से अधिक के गोदामों के मुकाबले का होगा। 
कीवर्ड e commerce, amazon, sale,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक