आईफोन को भारत से मदद

अलनूर पीरमोहम्मद | बेंगलूरु May 02, 2018 09:54 PM IST

विश्व की सबसे बड़ी कंपनी ऐपल की आमदनी मार्च तिमाही में 61 अरब रुपये के रिकॉर्ड स्तर पर रही है। यह पिछले साल की इसी तिमाही से 16 फीसदी अधिक है। कंपनी के सीईओ टिम कुक ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि वैश्विक स्मार्टफोन बाजार, विशेष रूप से आईफोन का बाजार उस स्थिति में पहुंच गया है, जिसमें अब कम मांग आएगी।  कुक ने भारत का उदाहरण दिया है, जो विश्व में तीसरा सबसे बड़ा स्मार्टफोन बाजार है। हालांकि अभी भारतीय बाजार में ऐपल की बिक्री सीमित है। उन्होंने उम्मीद जताई कि भारत में और लोगों के मध्य वर्ग में आने से वहां आईफोन की बिक्री बढ़ेगी। कंपनी चीन में भी इसी तरह का रुझान देख चुकी है। 

 
कंपनी के मार्च तिमाही के नतीजों की घोषणा के बाद विश्लेषकों से बात करते हुए कुक ने कहा, 'भारत विश्व में स्मार्टफोन का तीसरा सबसे बड़ा बाजार है। जाहिर तौर पर वहां हमारे लिए भारी संभावनाएं हैं और अभी उस बाजार में हमारी मामूली हिस्सेदारी है।' उन्होंने कहा कि कंपनी भारत में उन दूरसंचार कंपनियों के साथ मिलकर काम करने के लिए खूब प्रयास कर रही है, जिन्होंने एलटीई नेटवर्क तकनीक पर भारी निवेश किया है। कुक ने कहा, 'जब से हमने वहां इस दिशा में प्रयास शुरू किए हैं, उसके बाद से बुनियादी ढांचे में काफी सुधार आया है।'
 
पिछले कुछ वर्षों से ऐपल और कुक की यह राय रही है कि भारत अगला चीन बनेगा। वह ऐसे समय वृद्धि की अगुआई करेगा, जब वैश्विक स्तर पर स्मार्टफोन की बिक्री में वृद्धि मंद पड़ रही है। कंपनी इस पर दांव लगा रही है कि जैसे-जैसे ज्यादा लोग सामाजिक-आर्थिक सीढ़ी पर आगे बढ़ेंगे, वैसे-वैसे उनका गैर-जरूरी खर्च बढ़ेगा और वे सस्ते ऐंड्रायड स्मार्टफोन की जगह आईफोन खरीदेंगे। अभी देश में बिकने वाले सभी स्मार्टफोन में गूगल के ऐंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलने वाले स्मार्टफोन की तादाद करीब 95 फीसदी है। वर्ष 2017 में भारत में ऐपल की बाजार हिस्सेदारी 3 फीसदी से कम थी। हालांकि कंपनी ने आईफोन एसई जैसे अपने शुरुआती स्तर के स्मार्टफोन की कीमत नीचे लाने की कोशिश की है। कंपनी अपनी साझेदार विस्ट्रोन के साथ मिलकर बेंगलूरु में ही आईफोन एसई का उत्पादन करती है। कुक ने निवेशकों को आश्वस्त किया कि कंपनी की रणनीति काम कर रही है क्योंकि कंपनी ने मार्च, 2018  में समाप्त छह महीने की अवधि मेें बिक्री का नया रिकॉर्ड बनाया है। 
 
ऐपल का वित्त वर्ष अक्टूबर में शुरू होता है और सितंबर में समाप्त होता है। कुक ने भारत में बिक्री और राजस्व के आंकड़े बताए बिना कहा, 'भारत में हमने नया छमाही रिकॉर्ड बनाया है। इसलिए हम लगातार वहां खूब मेहनत कर रहे हैं और खुदरा जैसे विभिन्न प्रयासों के जरिये अपने लक्ष्य हासिल करने की कोशिश कर रहे हैं।' ऐपल भारत में खुदरा स्टोर खोलने की पुरजोर कोशिश कर रही है, लेकिन भारत में एकल ब्रांड की खुदरा बिक्री के लिए स्थानीय खरीद से संबंधित नियामकीय मसलों में उलझी हुई है। कंपनी द्वारा नियमों में रियायत दिए जाने के लिए की गई लॉबिइंग को शुरुआत में कुछ बढ़त मिली, लेकिन बाद में सरकार ने इसे खारिज कर दिया। 
कीवर्ड apple, iphone, india,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक