इन्फोसिस ने ब्लॉकचेन आधारित ट्रेड फाइनैंस नेटवर्क बनाया

रॉयटर्स | मुंबई May 16, 2018 09:45 PM IST

देश की अग्रणी आईटी कंपनी इन्फोसिस लिमिटेड ने निजी क्षेत्र के 7 बैंकों के साथ मिलकर ब्लॉकचेन आधारित ट्रेड फाइनैंस नेटवर्क बनाया है। इन्फोसिस का मकसद बैंकिंग क्षेत्र में सुरक्षा और दक्षता बढ़ाना और अपनी सेवा पेशकशों में इजाफा करना है।  देश की इस दूसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर सेवा निर्यातक कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि वह इस नेटवर्क से जुडऩे के लिए और कई घरेलू और विदेशी बैंकों के साथ बातचीत कर रही है। गौरतलब है कि इन्फोसिस का फिनैकल सॉफ्टवेयर ज्यादातर भारतीय बैंक अपने परिचालन में इस्तेमाल करते हैं। 
 
ब्लॉकचेन तकनीक में नेटवर्क के सभी सदस्यों के बीच सभी स्तर के लेनदेन को सुरक्षित रूप से साझा किया जाता है। यह हर बैंक के स्वतंत्र रूप से काम करने के विपरीत है, जो ज्यादा महंगा है और उसमें गलती के आसार बढ़ जाते हैं। कुछ दिनों पहले ही एचएसबीसी होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड ने कहा था कि उसने एक साझा ब्लॉकचेन प्लेटफॉर्म इस्तेमाल कर विश्व का पहला ट्रेड फाइनैंस लेनदेन किया है, जिसका मकसद कई लाख करोड़ रुपये के ट्रेड फाइनैंस खंड में दक्षता को बढ़ावा देना है।  इन्फोसिस अपना ट्रेड फाइनैंस नेटवर्क उस बैंकिंग क्षेत्र में स्थापित कर रही है, जो भारत के दूसरे सबसे बैंक पंजाब नैशनल बैंक में 2 अरब डॉलर की धोखाधड़ी की वजह से चिंतित है। कहा जा रहा है पीएनबी में यह घोटाला दो आभूषण समूहों ने इस बैंक के भ्रष्ट कर्मचारियों के साथ मिलकर किया है। 
 
इन सराफों पर आरोप है कि उन्होंने मुंबई में पीएनबी कर्मचारियों द्वारा मुहैया कराई गई नकली ट्रेड फाइनैंस गारंटी का इस्तेमाल कर भारतीय बैंकों की विदेशी शाखाओं से कर्ज उठा लिया। पीएनबी के इन कर्मचारियों ने इन गारंटी की बैंक के कंप्यूटर सिस्टम में प्रविष्टि नहीं की।  फिनैकल के वैश्विक प्रमुख (उत्पाद रणनीति) राजशेखर मैया ने एक टेलीफोन साक्षात्कार में कहा, 'इन्फोसिस का नेटवर्क खरीदारों, विक्रेताओं, खरीदार के बैंक, विक्रेता के बैंक और इस नेटवर्क में शामिल नियामक के लिए लेनदेन को पारदर्शी बना देगा।' उन्होंने कहा, 'ऐसी क्षमता से तकनीक उन सभी धोखाधडिय़ों से बचा सकती है, जो पंजाब नैशनल बैंक जैसी स्थितियों में हो सकते हैं।' इस साल मार्च में देश के केंद्रीय बैंक आरबीआई ने सभी बैंकों के लैटर ऑफ अंडरटेकिंग जारी करने पर रोक लगा दी थी। ब्लॉकचेन नेटवर्क की मदद से बैंक लैटर ऑफ क्रेडिट और बैंक गारंटी जारी रख सकते हैं। 
कीवर्ड infosys, आईटी सेवा प्रदाता इन्फोसिस,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक