चोकसी व गीतांजलि जेम्स के खिलाफ सीबीआई की चार्जशीट

बीएस संवाददाता | मुंबई May 16, 2018 09:50 PM IST

केंद्रीय जांच ब्यूरो ने बुधवार को गीतांजलि जेम्स, इसके प्रवर्तक मेहुल चोकसी और 16 अन्य पर दूसरी चार्जशीट दाखिल कर दी, जिन्होंने पंजाब नैशनल बैंक से 2015 व 2017 के बीच फर्जी तरीके से क्रेडिट सुविधा हासिल कर उसे 70.8 अरब रुपये का नुकसान पहुंचाया। यह कदम सरकार की तरफ से पीएनबी के तीन पूर्व व मौजूदा अधिकारियों (पूर्व एमडी व सीईओ उषा अनंत सुब्रमण्यन व कार्यकारी निदेशक के वी ब्रह्मजी राव व संजीव शरण समेत) का पहली चार्जशीट में शामिल है, जिसे सीबीआई ने सोमवार को दाखिल किया था। यह मामला भी पंजाब नैशनल बैंक के साथ नीरव मोदी की कंपनियों की तरफ से हुई धोखाधड़ी से संबंधित है। इन अधिकारियों का नाम सीबीआई की 12,00 पन्नों की दूसरी रिपोर्ट में भी है।
 
इस चार्जशीट में 142 धोखाधड़ी वाले लेटर ऑफ अंडरटेकिंग और 58 विदेशी लेटर ऑफ क्रेडिट को कवर किया गया है, जो 70.8 अरब रुपये का है। इनमेंं से चोकसी ने छह एलओयू व छह एफएलसी जारी किए थे, जो 5.12 अरब रुपये का है। इन पर भारतीय दंड संहिता की धारा 409, धारा 420 लगाए गए हैं। अभी तक सीबीआई की जांच में कुल 135 अरब रुपये की धोखाधड़ी सामने आई है। सूत्रों ने कहा कि जांच एजेंसी इस महीने के आखिर तक पूरक चार्जशीट दाखिल करेगी, जो धोखाधड़ी की बाकी रकम स्थापित कर सकती है।
 
सीबीआई ने अपनी चार्जशीट में कहा है, कथित तौर पर आरोपियों ने आपराधिक साजिश रची और पीएनबी के साथ 70.8 अरब रुपये की धोखाधड़ी की, जो फर्जी एलओयू विदेशी बैंकों को जारी कर रकम हथियाने से जुड़ी हुई है। जांच में खुलासा हुआ है कि पीएनबी के वरिष्ठ अधिकारियों की जानकारी के बावजूद यह घोटाला हुआ, जिन्होंने आरबीआई के सर्कुलर को लागू नहीं किया, जो स्विफ्ट के परिचालन को सुरक्षित रखने से जुड़ी थी। सीबीआई ने कहा कि बैंक के पूर्व डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ शेट्टी ने गीतांजलि समूह के हक में एलओयू व एफएलसी जारी करने के ऐवज में कथित तौर पर अवैध रकम हासिल की। सीबीआई के सूत्रों ने कहा कि शेट्टी 1 करोड़ रुपये की रिश्वत गीतांजलि जेम्स से लेने के आरोपी हैं।
कीवर्ड nirav modi, bank, loan, debt, PNB, fraud,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक