मुंजाल-बर्मन बोली बढ़ाने को तैयार

सुरजीत दास गुप्ता | नई दिल्ली May 22, 2018 09:46 PM IST

मुंजाल-डाबर गठजोड़ फोर्टिस हेल्थकेयर के लिए दोबारा बोली लगाने के लिए तैयार है और समझा जाता है कि प्रस्तावित नवगठित निदेशक मंडल की तरफ से ऐसे फैसले को चुनौती नहीं देगा। दोनों मिलकर फोर्टिस की खरीद के लिए अपनी 180 अरब रुपये की पेशकश में इजाफा करने पर विचार कर रहे हैं। फोर्टिस के निदेशक मंडल ने पिछले हफ्ते हीरो एंटरप्राइज इन्वेस्टमेंट ऑफिस और बर्मन फैमिली ऑफिस की पेशकश को स्वीकार कर लिया था। फोर्टिस का नियंत्रण किसके पास होगा, इस पर फैसला लेने के लिए मंगलवार को असाधारण आम बैठक बुलाई गई। ईजीएम का एजेंडा हालांकि बोर्ड के पुनर्गठन समेत चार निदेशकों को हटाना और तीन नए निदेशकों की नियुक्ति था, लेकिन इस बैठक से एक दिन पहले इनके इस्तीफे आ गए। तीन निदेशकों हरपाल सिंह, तेजिंदर सिंह शेरगिल और सबीना वैसोहा ने ईजीएम से पहले निदेशक मंडल से इस्तीफा दे दिया।
 
ईजीएम के मतदान के नतीजे बुधवार को आने की संभावना है। संपर्क किए जाने पर बर्मन-मुंजाल कंसोर्टियम ने इस मसले पर टिप्पणी करने से मना कर दिया। सूत्रों ने कहा कि अधिग्रहण के लिए रकम जुटाने के लिए दोनों प्राइवेट इक्विटी फर्मों के संपर्क कर सकते हैं। सेबी के नियम के तहत दोनों मिलकर खुली पेशकश भी लाएंगे, ऐसे में कुछ अल्पांश हिस्सेदारों का डर दूर हो जाएगा कि बोली जीतने के बाद वे शायद ऐसा नहींं करेंगे। सूत्रों ने यह जानकारी दी। बोली में कामयाबी के लिए 60-70 अरब रुपये की दरकार हो सकती है। बोली जीतने वाले को सिंगापुर के रियल एस्टेट ट्रस्ट को 36 अरब रुपये से ज्यादा चुकाना है, जिसका फोर्टिस के कई प्रमुख अस्पताल परिसंपत्तियों पर नियंत्रण है। फोर्टिस हेल्थकेयर और ट्रस्ट ने इस संबंध में समझौते पर हस्ताक्षर कर लिए हैं।
 
सौदे से जुड़े लोगों ने कहा कि बोली जीतने वाले को खुली पेशकश लाने की खातिर करीब 12 अरब रुपये की दरकार होगी। विजेता को कम से कम 5 अरब रुपये इस शृंखला में अतिरिक्त निवेश करना होगा क्योंकि इसका परिचालन हो रहा है। एक बोलीदाता ने कहा, हमें नहीं लगता कि अगले पांच में कोई इसका कायापलट कर पाएगा। फोर्टिस हेल्थकेयर को कई प्रतिस्पर्धियों से बोली मिली थी, जिसमें टीपीजी के साथ मणिपाल हॉस्पिटल्स, आईएचएच और चीन की दिग्गज फोसुन शामिल है। अंतिम बोली के चयन के तीन दिन बाद टीपीजी ने अपनी पूर्व की पेशकश में 12.5 फीसदी की बढ़ोतरी कर दी थी। यहां तक कि आईएचएच ने भी अपनी बोली कई बार संशोधित की।
 
भेदिया कारोबार नियम के उल्लंघन की जांच : फोर्टिस हेल्थकेयर के अधिग्रहण और बोर्ड रूम में मची खलबली के बीच बाजार नियामक सेबी कुछ संस्थागत निवेशकों की तरफ से भेदिया कारोबार के उल्लंघन के संदेह और अन्य नियामकीय गड़बड़ी की जांच कर रहा है। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। सेबी की जांच के अलावा गंभीर धोखाधड़ी जांच कार्यालय व कंपनी पंजीयक भी फोर्टिस व रेलिगेयर समेत अन्य प्रवर्तक इकाइयों में कथित वित्तीय गड़बड़ी पर नजर डाल रहे हैं। 
कीवर्ड dabur, munjal,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक