बोली पर कायम रहेगी डालमिया भारत

अभिषेक रक्षित | कोलकाता May 22, 2018 09:47 PM IST

बिनानी सीमेंट की दबाव वाली परिसंपत्तियों के अधिग्रहण के लिए 65.89 अरब रुपये की पेशकश पर डालमिया भारत की अगुआई वाला कंसोर्टियम टिका हुआ है। अगर एनसीएलटी का कोलकाता पीठ बिनानी के अधिग्रहण के लिए अल्ट्राटेक सीमेंट की पेशकश मंजूर करता है तो डालमिया भारत एनसीएलएटी का दरवाजा खटखटाएगी। मंगलवार को बिनानी सीमेंट मामले की सुनवाई में एनसीएलएटी ने यथास्थिति बनाए रखने की मांग वाली डालमिया भारत की याचिका खारिज कर दी। इसके बाद ही डालमिया भारत का इस तरह का बयान आया है। गौरतलब है कि बिनानी मामले में डालमिया भारत पहले बोली जीत चुकी थी।

 
एक सूत्र ने कहा, चूंकि यह अपनी पेशकश में संशोधन नहीं कर रही है, लिहाजा लेनदारों की समिति या तो उनकी पेशकश या फिर अल्ट्राटेक की पेशकश चुन सकती है। अल्ट्राटेक की पेशकश 13.76 अरब रुपये ज्यादा है। सूत्र ने कहा, प्रक्रिया के तहत सीओसी की सिफारिश के बाद रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल एनसीएलटी के सामने योजना रखेंगे। अगर एनसीएलएटी की मंजूरी के बिना एनसीएलटी अल्ट्राटेक की पेशकश के साथ आगे बढऩे का फैसला देता है तो डालमिया भारत की अगुआई वाला कंसोर्टियम इस फैसले को चुनौती देगा और एनसीएलएटी के सामने इसे 10 जुलाई को रखेगा।
 
विस्तार की ओर बढ़ रही यह कंपनी पहले ही एनसीएलएटी के पास याचिका दाखिल कर एनसीएलटी के आदेश पर रोक की मांग कर चुका है, जिसने अल्ट्राटेक की बोली स्वीकार कर ली और अप्रत्यक्ष तौर पर डालमिया भारत को अपनी पेशकश बढ़ाने को कहा। हालांकि अपीलीय ट्रिब्यूनल ने एनसीएलटी के आदेश पर रोक लगाने से मना कर दिया, लेकिन सुनवाई के मामला सूचीबद्ध कर लिया। मामला 10 जुलाई तक के लिए स्थगित कर दिया गया। सूत्रों के मुताबिक, अगर बिनानी सीमेंट के लेनदार व अल्ट्राटेक सौदे पर हस्ताक्षर करते हैं और नकदी हस्तांतरण होता है तो एनसीएलएटी के पास प्रक्रिया को पलटने का अधिकार है।
 
दूसरी ओर एनसीएलटी ने समाधान प्रक्रिया के लिए 24 जून की समयसीमा तय की है और अगर इस अवधि में समाधान नहीं हो पाया तो बिनानी सीमेंंट आईबीसी के तहत परिसमापन का सामना करेगी। हालांकि मामले से जुड़े वकीलों ने कहा कि ट्रिब्यूनल समयसीमा को आगे बढ़ा सकता है। अल्ट्राटेक के सूत्रोंं ने कहा, कंपनी एनसीएलएटी में आज की चर्चा का पालन करेगी, जिसने सीओसी को अपने हिसाब से समाधान प्रक्रिया आगे बढ़ाने को कहा है। साथ ही यह भी कहा है कि इसे रोका नहीं जा सकता।
 
अल्ट्राटेक के प्रस्ताव पर विचार के लिए पिछले शुक्रवार की सीओसी की बैठक के बाद इसने डालमिया भारत को अल्ट्राटेक की पेशकश के बराबर बोली लगाने के लिए 23 मई 12 बजे तक का समय दिया। लेनदारों के सूत्रों ने कहा कि अगर डालमिया भारत बोली में इजाफा नहींं करती है तो सीओसी अल्ट्राटेक की योजना को स्वीकार कर इसे मंजूरी के लिए एनसीएलटी के सामने रख सकती है।
कीवर्ड binani, cement, NCLT, dalmia,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक