टाटा स्टील को भूषण खरीद से 2-3 साल में फायदा

बीएस संवाददाता |  May 23, 2018 10:09 PM IST

टाटा स्टील द्वारा भारी ऋण बोझ तले दबी इस्पात कंपनी भूषण स्टील में नियंत्रण योग्य हिस्सेदारी के अधिग्रहण का फायदा अगले दो से तीन वर्षों में मिलने लगेगा। फिच रेटिंग्स ने आज यह बात कही। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस पहल से भारत में कंपनी की बाजार हिस्सेदारी भी बढ़ेगी। भूषण के अधिग्रहण से टाटा स्टील को घरेलू बाजार में अपनी बाजार हिस्सेदारी बढ़ाने में मदद मिलेगी लेकिन फिच के आकलन के अनुसार अगले दो-तीन साल में टाटा स्टील का शुद्ध ऋण बनाम एबिटा बढ़कर चार गुना हो जाएगा जो मार्च 2018 के अंत में करीब तीन गुना रहा था। इस अधिग्रहण के कारण भूषण के अतिरिक्त कार्यशील पूंजी ऋण को छोड़कर टाटा स्टील के शुद्ध ऋण में करीब 350 अरब रुपये की बढ़ोतरी होगी।
 
फिच ने कहा, 'हम अधिग्रहण के दूसरे साल करीब 45 अरब रुपये के अतिरिक्त एबिटा की उम्मीद करते हैं जो 50 लाख टन उत्पादन पर आधारित है। प्रति टन एबिटा करीब 9,000 रुपये होगी जो टाटा स्टील द्वारा भूषण के परिचालन को दो साल में सफलतापूर्वक अधिकतम स्तर तक पहुंचाने पर आधारित है।'  कंपनी की ऋण समाधान योजना को एनसीएलटी से 15 मई को मंजूरी मिलने के बाद इस अधिग्रहण के लिए टाटा स्टील अब लगभग सभी नियामकीय बाधाओं को पार कर चुकी है।  
कीवर्ड bhusan steel, NCLT, tata steel,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक