बोली चयन की प्रक्रिया आगे बढ़ाए भूषण पावर के लेनदार

एजेंसियां | नई दिल्ली May 24, 2018 09:48 PM IST

राष्ट्रीय कंपनी विधि अपीलीय न्यायाधिकरण (एनसीएलएटी) ने कर्ज में डूबी भूषण पावर ऐंड स्टील से संबद्ध कर्जदाताओं की समिति (सीओसी) को टाटा स्टील तथा ब्रिटेन की लिबर्टी हाउस की बोलियों पर कार्यवाही आगे बढ़ाने को कहा है। अपीलीय न्यायाधिकरण ने सीओसी से अपना निर्णय बंद लिफाफे में रखने को कहा। न्यायाधिकरण ने कहा कि यह निर्णय उसके अंतिम आदेश पर निर्भर करेगा। एनसीएलएटी के चेयरमैन न्यायमूर्ति एस जे मुखोपाध्याय की अध्यक्षता वाले पीठ ने कहा, आप जिसको मंजूरी देने का निर्णय करते हैं, उस फैसले को बंद लिफाफे में रखें और यह इसके अंतिम आदेश पर निर्भर करेगा।
 
न्यायाधिकरण ने कर्जदाताओं की समिति के दोनों पक्षों को फिर से बोली जमा करने के अनुरोध को खारिज कर दिया। एनसीएलएटी अगली सुनवाई 12 जुलाई को करेगा। अपीलीय न्यायाधिकरण का आदेश सीओसी के आवेदन पर आया है, जिसमें प्रक्रिया के बारे में स्पष्टीकरण देने का आग्रह किया गया था।  23 अप्रैल को एनसीएलएटी ने पीएनबी की अगुआई वाले भूषण पावर ऐंड स्टील के कर्जदाताओं को ब्रिटेन की लिबर्टी हाउस की बोली पर विचार करने को कहा था। लिबर्टी हाउस की अर्जी को स्वीकार करते हुए न्यायाधिकरण ने सीओसी से समाधान प्रक्रिया 23 जून तक पूरी करने को कहा था। टाटा स्टील पहले ही एनसीएलटी के पीठ के आदेश को चुनौती दे चुकी है। 
कीवर्ड NCLT, नैशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी),

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक