मैटिक्स के कनोडिय़ा से पूछताछ

अरूप रायचौधरी | नई दिल्ली May 30, 2018 09:32 PM IST

न्यूपावर रीन्यूएबल्स की जांच के सिलसिले में अब मैटिक्स ग्रुप से पूछताछ हो रही है। आयकर विभाग ने आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ चंदा कोछड़ के पति दीपक कोछड़ प्रवर्तित न्यूपावर रीन्यूएबल्स की जांच के मामले में मैटिक्स ग्रुप के चेयरमैन निशांत कनोडिय़ा से पूछताछ की। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। उच्च पदस्थ अधिकारियों ने कहा कि केंद्रीय जांच ब्यूरो न्यूपावर रीन्यूएबल्स के वित्तीय लेनदेन के संबंध में आगामी हफ्तों में मामला दायर कर सकता है यानी प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कर सकता है। यह अभी स्पष्ट नहीं है कि किसी व्यक्ति या इकाई का नाम इस एफआईआर में हो सकता है।

 

कर विभाग के एक अधिकारी ने कहा, आईटी विभाग हालांकि न्यूपावर में फस्र्टलैंड होल्डिंग्स की तरफ से हुए 3.25 अरब रुपये के निवेश की जांच कर रहा है, जो मॉरीशस के जरिए आया था, लेकिन हमारी जांच अब इस पर केंद्रित हो गई है कि इस फंड का स्रोत क्या है और फस्र्टलैंड होल्डिंग्स ने इतनी जल्दी न्यूपावर से निकासी क्यों की। साथ ही इसका एस्सार ग्रुप की कंपनियों के साथ क्या कोई संबंध है। निशांत कनौडिय़ा एस्सार समूह के रवि रुइया के दामाद हैं और उनके पास फस्र्टलैंड होल्डिंग्स लिमिटेड का स्वामित्व है, जिसने 2010 से 2012 के बीच न्यूपावर में 3.25 अरब रुपये का निवेश किया था। इस महीने विभाग ने कनोडिय़ा व संबंधित व्यक्तियों की तलाशी ली थी।

 

कनोडिय़ा से पूछताछ और तलाशी कई लेनदेन की जांच के बाद हुई, जिससे न्यूपावर, वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज और भारत व विदेश के अन्य संबंधित पक्षकार जुड़े हुए हैं। सीबीआई ने पहले कनोडिय़ा के खिलाफ प्राथमिक जांच दर्ज की थी, जो दीपक कोछड़ और वीडियोकॉन समूह के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत के बीच कथित गठजोड़ से जुड़ी थी। एक अधिकारी ने कहा, सवाल यह है कि फस्र्टलैंड ने न्यूपावर में उस रकम का निवेश क्यों किया, जिससे उन्हें कंपनी की 49 फीसदी हिस्सेदारी मिली और जिसे एक साल के भीतर ही उसने डीएच रीन्यूएबल को बेच दी।

 

बिजनेस स्टैंडर्ड की तरफ से भेजे गए ईमेल के जवाब में मैटिक्स समूह के प्रतिनिधि ने कहा कि आईटी विभाग नियमित जांच कर रहा है और कंपनी ने पूरा सहयोग दिया है। हम दोहराना चाहते हैं कि मैटिक्स ने हमेशा ही कंपनी कॉरपोरेट प्रशासन के उच्च मानकों का पालन किया है और हर बार कारोबारी लेनदेन का पूरी तरह से खुलासा किया है। यह पूछे जाने पर कि क्या कनोडिय़ा ने न्यूपावर में फस्र्टलैंड की तरफ से किए गए 3.25 अरब रुपये के स्रोत का खुलासा आयकर अधिकारियों के सामने किया तो प्रतिनिधि ने कहा कि इससे जुड़ी जानकारी अधिकारियों को उपलब्ध करा दी गई।

 

प्रतिनिधि ने कहा कि फस्र्टलैंड को न्यूपावर की हिस्सेदारी का विनिवेश मैटिक्स के उर्वरक कारोबार की लागत बढऩे के चलते करना पड़ा, जिसकी फंडिंग के लिए रकम की जरूरत थी। यह लेनदेन आईटी की जांच के दायरे में तब आ गया जब फस्र्टलैंड ने संचयी परिवर्तनीय तरजीही शेयर मॉरीशस की अन्य इकाई डीएच रीन्यूएबल को बेच दी, जो एक्सन डाइवर्सिफाइड स्ट्रैटिजीज फंड की सहायक है, जो केमन आइलैंड पर है। कनोडिय़ा को हालांकि न्यूपावर में अपने निवेश पर न तो लाभांश मिला और न ही पूंजीगत लाभ।  एस्सार ने कहा है कि न्यूपावर में फस्र्टलैंड के निवेश से उसका कोई लेनादेना नहीं है और यह भी कहा कि इसने न्यूपावर में कोई निवेश नहीं किया है। 
कीवर्ड new power, matics,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक