मैकलॉयड की ओर आ सकते हैं असम कंपनी के खरीदार

अभिषेक रक्षित और ईशिता आयान दत्त | कोलकाता May 31, 2018 09:47 PM IST

असम में कुछ चाय बागानों की प्रस्तावित बिक्री और दोआर क्षेत्र से बाहर निकलने के मैकलॉयड रसेल के प्रस्ताव की ओर असम कंपनी के कुछ खरीदार खींचे चले आ सकते हैं। इसकी वजह यह है कि असम कंपनी की बिक्री के साथ दिवालिया संहिता के नियम व दिशानिर्देश जुड़े हुए हैं। विस्तार की इच्छा रखने वाले चाय उत्पादकों को असम कंपनी इंडिया लिमिटेड के लिए बोली लगाने में मुश्किल हुई, लेकिन अब उन्हें मैकलॉयड रसेल बड़े चाय बागान खरीदने का मौका उपलब्ध करा रही है। कुछ अन्य के लिए भी यह विकल्पों के द्वार खोल रही है। मैकलॉयड रसेल के अधिकारियों के मुताबिक, इस कंपनी के बागानों का अधिग्रहण असम कंपनी के मुकाबले आसान व कम जटिल हो सकता है।

 
असम कंपनी की बोली के लिए पात्रता की शर्तों ने पहले ही जेम्स वारेन टी व एम के शाह एक्सपोर्ट की तरफ से दो याचिकाएं सामने आ गई हैं, जो बोली लगाना चाहते थे लेकिन वित्तीय शर्तों के आधार पर अयोग्य करार दिए गए। इसके अलावा ब्रिटेन की कैमिला पीएलटी के मालिकाना हक वाले गुडरिक समूह ने कहा कि असम कंपनी खरीदने के लिए 14 अभिरुचि पत्र जमा कराए गए हैं। मैकलॉयड रसेल के निदेशक व भारतीय चाय संघ के चेयरमैन आजम मोनेम ने कहा, यह निजी बिक्री है, ऐसे में यह तेजी से होने की उम्मीद है।
 
दूसरी ओर, यह खरीदारों को और विकल्प और एस्टेट्स के लिए मूल्यांकन पर बातचीत करने का मौका दे सकता है। जेम्स वारेन टी, गुडरिक समूह, एम के शाह एक्सपोट्र्स, लक्ष्मी टी और कई अन्य अपने-अपने पोर्टफोलियो का विस्तार करना चाहते हैं। गुडरिक समूह के सीईओ व प्रबंध निदेशक अतुल अस्थाना ने कहा, हम असम में चाय बागान खरीदने पर विचार कर सकते हैं, लेकिन पहले कैमिला बोर्ड से मंजूरी लेनी होगी। यह कंपनी असम कंपनी की परिसंपत्तियां खरीदने की इच्छुक थी, लेकिन रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल की तरफ से अभिरुचि पत्र आमंत्रित किए जाने के बाद इसने यह जमा नहींं कराया क्योंकि वह 5 करोड़ रुपये अग्रिम तौर पर नहींं जमा कराना चाहती थी और इसके पास 50 करोड़ नकद व नकदी समकक्ष नहीं थे, जो बोली की शर्तें थी।
 
जेम्स वारेन टी के सीईओ अतुल रुइया ने कहा, अगर असम कंपनी की समाधान प्रक्रिया में देती होती है तो हमें लगता है कि हम इसका अधिग्रहण नहीं कर पाएंगे, ऐसे में हम असम में अन्य बागान पर नजर डालेंगे। मैकलॉयड के बागानों का मूल्यांकन 300 रुपये से 350 रुपये प्रति किलोग्राम हो सकता है। जबकि मैकलॉयड रसेल 400-500 रुपये प्रति किलोग्राम का मूल्यांकन चाहती है।
कीवर्ड assam, tea, bagan, चाय बोर्ड दार्जिलिंग,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक