अल्ट्राटेक ने आईबीसी के बाहर भी रखे हैं विकल्प खुले

अभिषेक रक्षित | कोलकाता Jun 03, 2018 09:39 PM IST

बिनानी सीमेंट के अधिग्रहण के मामले में डालमिया भारत की अगुआई वाले कंसोर्टियम को पीछे छोड़ते हुए आईबीसी व्यवस्था के तहत सबसे बड़ी बोलीदाता होने के बावजूद अल्ट्राटेक सीमेंट ने इस कंपनी के अधिग्रहण के लिए अन्य विकल्प भी खुले रखे हैं। सूत्रों ने कहा, सीओसी की तरफ से लेटर ऑफ इंटेंट जारी किए जाने के बाद बिड़ला समूह की कंपनी ने लेनदारों के पास 6.52 अरब रुपये जमा कराए हैं और पहले भी बिनानी सीमेंट के निदेशकों को रकम मुहैया कराई थी जब कंपनी ने लेनदारों के साथ अदालत के बाहर मामले का निपटान करना चाहा था।
 
एनसीएलटी के कोलकाता पीठ की सिफारिशों के आधार पर बिनानी सीमेंट के निदेशकों ने लेनदारों के साथ बातचीत की थी और उन्हें ब्याज समेत पूरे बकाए के भुगतान का वादा किया था। तब अग्रणी लेनदारों ने बिनानी सीमेंट से कहा था कि अपनी प्रतिबद्धता के समर्थन में वह बैंक गारंटी जमा कराए। इसके आधार पर अल्ट्राटेक ने लेनदारोंं के पास 7.5 अरब रुपये जमा कराए थे क्योंकि 98 फीसदी हिस्सेदारी के अधिग्रहण के लिए वह इस सौदे में वित्तीय मदद कर रही थी। हालांकि यह सौदा अंतत: नहीं हो पाया, लेकिन अल्ट्राटेक की तरफ से दी गई 7.5 अरब रुपये की बैंंक गारंटी अभी भी लेनदारों के पास ही है।
 
लेनदारों की समिति ने तय नहीं किया है कि इस रकम के साथ क्या किया जाए। कुछ सूत्रों ने सुझाव दिया कि इसे अल्ट्राटेक को लौटा दिया जाएगा, जबकि अन्य का मानना है कि इसे अंतिम भुगतान में समायोजित किया जा सकता है, जो अल्ट्राटेक को इस अधिग्रहण पर देना है। सीओसी के सूत्र ने कहा कि जब तक यह रकम लेनदारोंं के पास रहेगी, यह विकल्प खुला रहेगा, जो बिनानी सीमेंट के खिलाफ दिवालिया कार्यवाही की समाप्ति की खातिर बैंक गारंटी के तौर पर दी गई थी। सूत्र ने कहा, जब तक लेनदार इसे लौटाते नहीं हैं या स्पष्ट रूप से बताते नहीं हैं कि इसके साथ क्या किया जाना है, तो अदालत के बाहर मामले के निपटान का विकल्प खुला रहेगा। उधर अल्ट्राटेक सभी विकल्प खुला रख सकती है।
कीवर्ड ultratec, binani, cement, NCLT,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक