55 प्रतिशत बाजार भागीदारी हासिल करेगी मारुति सुजूकी

अजय मोदी | नई दिल्ली Jun 11, 2018 09:46 PM IST

यदि आप सोचते हैं कि भारतीय कार बाजार में मारुति सुजूकी की 50 प्रतिशत भागीदारी काफी ज्यादा है तो आप भविष्य में इसे लेकर आश्चर्यचकित हो सकते हैं। अपनी बाजार भागीदारी को वर्ष 2014-15 के 45 फीसदी से बढ़ाकर 2017-18 में 50 प्रतिशत करने वाली इस कार निर्माता दिग्गज की रफ्तार धीमी नहीं पड़ी है। ताजा आंकड़ों से पता चलता है कि सुजूकी के स्वामित्व वाली कंपनी अब 55 प्रतिशत हिस्सेदारी की ओर तेजी से बढ़ रही है जबकि प्रतिस्पर्धियों को अपनी मौजूदा रफ्तार बरकरार रखने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। पिछले दो दशकों में भारत में कंपनी की यह सर्वाधिक बाजार भागीदारी होगी। मौजूदा रफ्तार के हिसाब से मारुति द्वारा 53-54 फीसदी की भागीदारी के साथ वर्ष 2018-19 का समापन किए जाने की संभावना है।
 
वर्ष 2018-19 के पहले दो महीनों (अप्रैल-मई) के लिए आंकड़ों के हिसाब से तेजी से बढ़ रहे घरेलू यात्री वाहन बाजार में मारुति सुजूकी की भागीदारी 54.50 प्रतिशत पर है, जो वैश्विक रूप से पांचवीं सर्वाधिक बाजार भागीदारी है। मारुति की निकटतम प्रतिस्पर्धी और दूसरी सबसे बड़ी कंपनी हुंडई की अब 15 प्रतिशत से ज्यादा बाजार भागीदारी है। इन दो शीर्ष कंपनियों के बीच अंतर बढ़ रहा है और हुंडई की तुलना में मारुति सुजूकी तीन गुना से अधिक की बिक्री करती है। कोरियाई कार निर्माता एक अंक की बिक्री वृद्घि में सक्षम है और उसे क्षमता अवरोधों से चुनौती का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि उसके द्वारा भारत में दूसरी निर्माण इकाई शुरू की जानी अभी बाकी है। दूसरी तरफ, मारुति ने पैतृक सुजूकी द्वारा पिछले साल के शुरू में गुजरात संयंत्र शुरू किए जाने के बाद क्षमता अवरोधों को दूर किया है और उसे दो अंक की वृद्घि को बनाए रखने में मदद मिल रही है। हुंडई मोटर इंडिया के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्याधिकारी वाई के कू का कहना है कि इस साल के शुरू में कंपनी बिक्री के संदर्भ में मारुति सुजूकी से मुकाबला नहीं कर सकती, लेकिन उसका मकसद लोगों के लिए एक अत्याधुनिक प्रीमियम ब्रांड बनना होगा। 
 
घरेलू वाहन निर्माता और तीसरी सबसे बड़ी कंपनी महिंद्रा ऐंड महिंद्रा का बाजार भागीदारी महज 7 प्रतिशत है। भारतीय बाजार में लगभग एक दर्जन कार निर्माता कंपनियां परिचालन कर रही हैं, लेकिन इनमें से सिर्फ दो की ही दोहरे अंक की भागीदारी है और कई अन्य की बाजार भागीदारी 5 प्रतिशत से नीचे है। मारुति सुजूकी के मामले में, कुछ ताजा सफल लॉन्च - बलेनो, ब्रेजा और नई डिजायर एवं स्विफ्ट से उसे अच्छी बिक्री वृद्घि दर्ज करने में मदद मिली है। ऑल्टो और वैगनआर जैसे पुराने मॉडलों का योगदान भी अहम बना हुआ है। कंपनी के चेयरमैन आर सी भार्गव का कहना है कि ये मॉडल बाजार में सफल साबित हुए हैं। 
कीवर्ड maruti, car, market, share,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक