मूल्यांकन से बढ़ी असम कंपनी की उम्मीद

अभिषेक रक्षित और ईशिता आयान दत्त | कोलकाता Jun 11, 2018 09:49 PM IST

मैकलॉयड रसेल के बागानों की बिक्री के 340-350 रुपये प्रति किलोग्राम के मूल्यांकन ने असम कंपनी इंडिया लिमिटेड के दबाव से जूझ रहे चाय बागानों की बिक्री के लिए बेहतर मूल्यांकन की उम्मीद जगाई है। असम कंपनी इंडिया मौजूदा समय में एनसीएलटी के गुवाहाटी पीठ में दिवालिया प्रक्रिया से गुजर रही है। सूत्रों का मानना है कि इन दोनों कंपनियों के बागानों की गुणवत्ता अच्छी और समान है, हालांकि कंपनी के राजस्व और मार्जिन पर लंबे समय तक दबाव की वजह से असम कंपनी के चाय बागान उपेक्षा की स्थिति का शिकार हुए हैं।

 
एम. के. शाह एक्सपोट्ïर्स, धनसेरी टी एंड पेट्रोकेम जैसे इच्छुक खरीदारों ने पहले यह कहा था कि इस उपेक्षा की वजह से असम कंपनी के बागानों का मूल्यांकन मैकलॉयड (कंपनी के बागान परिचालन में हैं) के समान नहीं हो सकता। एम. के. शाह एक्सपोट्ïर्स के चेयरमैन हिमांशु शाह ने कहा, 'हालांकि हाल में मैकलॉयड के बागानों की बिक्री ने उद्योग के लिए मूल्य निर्धारण मानक स्थापित किया है और बागानों के मूल्यांकन पर स्थिति स्पष्टï हो रही है।' एम. के. शाह एक्सपोट्ïर्स ने असम कंपनी के 14 चाय बागानों को खरीदने में दिलचस्पी दिखाई। 
 
एम. के. शाह एक्सपोट्ïर्स ने असम कंपनी की परिसंपत्तियां खरीदने में दिलचस्पी दिखाई थी, लेकिन रिजोल्यूशन प्रोफेशनल द्वारा मौद्रिक अर्हता की शर्तों पर उसे अयोग्य करार दिया गया था। एनसीएलटी में कई मुकदमेबाजी के बाद यह कंपनी एनसीएलएटी में पहुंच गई जहां मामले की सुनवाई अगले महीने होनी है। इस बीच एम. के. शाह एक्सपोट्ïर्स 340 रुपये प्रति किलोग्राम के मूल्यांकन पर असम में डूम-डूमा क्षेत्र में आठ उच्च गुणवत्ता वाले बागान खरीदने के लिए मैकलॉयड के साथ एक शुरुआती समझौता किया है। जब शाह से यह पूछा गया कि क्या उनकी कंपनी अभी भी असम कंपनी की बिक्री में दिलचस्पी ले रही है तो उन्होंने कहा, 'मौजूदा समय में हमने इस बारे में कोई निर्णय नहीं लिया है।'
कीवर्ड tea, bagan, चाय बोर्ड दार्जिलिंग,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक