जल प्रलय से बिहार में मचा हाहाकार

बीएस संवाददाता | पटना Aug 16, 2017 09:31 PM IST

बिहार में बाढ़ के तांडव ने जन-जीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है। राज्य के 15 जिलों में करीब 74 लाख लोग इस वक्त बाढ़ की विभीषिका झेल रहे हैं। जल प्रलय से अब तक राज्य में 72 लोगों की मौत की सूचना है। साथ ही, इससे करोड़ों रुपये की क्षति हुई है। बाढ़ से उत्तर बिहार और सीमांचल के इलाके सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। गोपालगंज, पूर्वी चंपारण, पश्चिमी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, सीतामढ़ी, पूर्णिया, कटिहार, अररिया और किशनगंज जिलों में बाढ़ से सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। इन इलाकों में कोसी, गंडक, महानंदा, कमला और दूसरी नदियों का पानी शहरों और गांवों में घुस गया है। एनडीआरएफ की कुल 27 टीमें बिहार में अलग-अलग इलाकों में राहत और बचाव के काम में लगी हुई हैं। आने वाले दिनों में कई और टीमों के बिहार पहुंचने की संभावना है। 
 
आपदा प्रबंधन विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने बुधवार को कहा, 'इस वक्त राज्य के 14 जिलों में 110 प्रखंडों में 1,154 पंचायतें बाढ़ की विभीषिका से जूझ रही हैं। कुल मिलाकर बाढ़ से 73.55 लाख आबादी प्रभावित है। बाढ़ प्रभावित इलाकों में 500 से ज्यादा राहत शिविर स्थापित किए हैं। अब तक 2.75 लाख लोग सुरक्षित इलाकों में पहुंचाए गए हैं।' राज्य सरकार ने बाढ़ प्रभावित जिलों में सभी स्कूलों और कॉलेजों को अगले आदेश तक बंद रखने का आदेश दिया है। सभी जिला प्रशासनों को युद्ध स्तर पर राहत और बचाव काम करने का आदेश दिया है।
कीवर्ड bihar, flood,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक