पटाखा उद्योग को राहत मगर महंगे बिकेंगे पटाखे

रामवीर सिंह गुर्जर | नई दिल्ली Sep 12, 2017 10:19 PM IST

छूटेंगे पटाखे

► शीर्ष न्यायालय ने दिल्ली-एनसीआर में पटाखों की बिक्री हेतु स्थायी, खुदरा लाइसेंस से रोक हटाई
50 फीसदी कम अस्थायी लाइसेंस होंगे जारी, ज्यादा से ज्यादा 500 लाइसेंस जारी करने की मिली इजाजत

उच्चतम न्यायालय ने दिल्ली-एनसीआर में पटाखों की बिक्री के लिए स्थायी और खुदरा लाइसेंस निलंबित करने के अपने पिछले साल नवंबर के आदेश को फिलहाल हटा दिया है। साथ ही दिल्ली-एनसीआर में अस्थायी लाइसेंस की संख्या में 50 फीसदी कटौती होने, इस इलाके में पटाखों का पर्याप्त स्टॉक पहले से होने और दीवाली पर 50 लाख किलोग्राम पटाखे पर्याप्त होने की बात कहकर अदालत ने बाहर से इन्हें मंगाने पर प्रतिबंध भी लगा दिया। इससे पटाखों के दाम बढ़ सकते हैं।

न्यायालय ने अपने आदेश में कहा कि दीवाली बाद स्थायी लाइसेंस निलंबित करने के आदेश को हटाने के बारे में समीक्षा की आवश्यकता हो सकती है। लेकिन यह इस बात पर निर्भर करेगा कि त्योहार के बाद हवा कितनी साफ रहती है। शीर्ष अदालत ने केंद्र और संबंधित प्राधिकारियों से कहा कि वे लोगों को अलग अलग पटाखे चलाने के बजाय सामूहिक रूप से इसमें शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करने पर विचार करें।

सदर बाजार पटाखा कारोबारी संघ के अध्यक्ष नरेंद्र गुप्ता ने कहा न्यायालय द्वारा स्थायी लाइसेंस पर निलंबन का फैसला हटाने से पटाखा कारोबारियों को राहत मिली हैं। लेकिन अस्थायी लाइसेंस में 50 फीसदी कटौती व बाहरी राज्यों से पटाखों की आपूर्ति पर रोक से इस दीवाली दिल्ली-एनसीआर में पटाखों की कमी हो सकती है और दाम बढ़ सकते हैं। गुप्ता ने कहा दिल्ली में पिछले साल करीब 800 अस्थायी लाइसेंस दिए गए थे। दिल्ली में स्थायी लाइसेंस वालों की संख्या 15-20 है।

कीवर्ड पटाखे, न्यायालय, दिल्ली-एनसीआर, लाइसेंस, प्रतिबंध, दीवाली,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक