सेल फिर हासिल करेगी सबसे बड़ी इस्पात कंपनी का ओहदा

आर कृष्णा दास | रायपुर Sep 20, 2017 09:57 PM IST

सार्वजनिक क्षेत्र की इस्पात कंपनी सेल एक बार फिर देश की सबसे बड़ी इस्पात विनिर्माता के तौर पर अपनी स्थिति मजबूत करने की तैयारी में है। भिलाई स्टील प्लांट में स्थापित ब्लास्ट फर्नेस-8 का निर्माण पूरा हो चुका है और कंपनी यहां जल्द उत्पादन शुरू कर सकती है। 62,000 करोड़ रुपये लागत से सेल की आधुनिकीकरण की योजना पूरी होने के करीब है। कंपनी भिलाई, राउरकेला और बर्नपुर संयंत्र का विस्तार और आधुनिकीरण कर रही है। अन्य संयंत्रों में भी कंपनी ने विस्तार और आधुनिकीकरण का काम पूरा किया है। राउरकेला और बर्नपुर संयंत्र के विस्तार का काम समय से पहले पूरा हो चुका है और वहां पूरी क्षमता के साथ परिचालन भी किया जा रहा है। 

 
भिलाई संयंत्र सेल के लिए सबसे मुनाफा कमाने वाली इकाई है और यहां के आधुनिकीकरण का काम भी लगभग पूरा होने को है। संयंत्र के ब्लास्ट फर्नेस की क्षमता 8 हजार टन प्रति दिन है। कंपनी के प्रवक्ता ने कहा, 'विस्तार योजना के पूरा होने से सेल की क्रूड स्टील की क्षमता बढ़कर 2.14 करोड़ टन सालाना हो जाएगी।' उन्होंने कहा कि इससे कंपनी स्टील उत्पादन के क्षेत्र में देश की शीर्ष कंपनी होगी और इस क्षेत्र में एक तरह से उसका वर्चस्व होगा। पिछले साल मई में निजी क्षेत्र की जेएसडब्ल्यू स्टील ने सेल को पीछे छोड़कर 1.8 करोड़ टन सालाना क्षमता के साथ देश की सबसे बड़ी इस्पात कंपनी बन गई। दिलचस्प है कि सेल की विस्तार योजना ऐसे समय में पूरा हो रही है जब स्टील की मांग और कीमतों में सुधार देखा जा रहा है। इससे कंपनी की आय पर सकारात्मक असर पड़ेगा।
कीवर्ड SAIL, steel,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक