किसानों को 2,100 करोड़ रुपये का बोनस

आर कृष्णा दास | रायपुर Sep 22, 2017 09:44 PM IST

ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने खरीफ विपणन सत्र 2016 में की गई धान की खरीद के लिए 2100 करोड़ रुपये का बोनस आवंटित करने का निर्णय किया है। राज्य सरकार ने आज राज्य विधानसभा के एकदिवसीय विशेष सत्र में दूसरा पूरक बजट पेश किया, जिसमें विधानसभा से किसानों को 2100 करोड़ रुपये बोनस आवंटित करने के लिए खर्च की मंजूरी मांगी गई, जो ध्वनि मत से पारित हो गया।
राज्य सरकार की इस पहल से 13.5 लाख किसानों को लाभ मिलेगा। किसानों को प्रति क्विंटल 300 रुपये का बोनस मिलेगा। राज्य में 2016 खरीफ विपणन सत्र में 69 लाख टन धान की खरीद की गई है। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा, 'बोनस से किसानों को बड़ी राहत मिल सकती है क्योंकि इस साल राज्य के अधिकांश इलाके सूखे की चपेट में हैं।' उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने विधानसभा का विशेष सत्र आहूत कर द्वितीय पूरक बजट पेश किया क्योंकि सरकार चाहती थी कि किसानों के चेहरे पर दिवाली के त्योहार से पहले मुस्कान लाई जाए।
सिंह ने कहा कि किसानों को मौजूदा खरीफ सत्र 2017 के लिए अगले साल भी बोनस मिल सकता है। उन्होंने कहा, 'राज्य सरकार के लिए धान की खरीद शीर्ष प्राथमिकता थी।' इस दौरान 11,000 करोड़ रुपये का धान खरीदा गया जबकि 2000 में राज्य के गठन के समय इसका बजट केवल 6,000 करोड़ रुपये का ही था।
विपक्षी दल कांग्रेस किसानों को बोनस नहीं दिए जाने को लेकर राज्य सरकार आलोचना कर रही थी। कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा, 'अगर राज्य सरकार वाकई गंभीर थी तो उसे मॉनसून सत्र के दौरान ही बोनस की घोषणा करनी चाहिए थी। ' उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सीमित संख्या में किसानों को बोनस मुहैया करा रही थी जबकि उसे राज्य में धान की पूरी उपज पर बोनस देना चाहिए।

कीवर्ड Chhattisgarh, paddy, बोनस,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक