'परियोजना समय पर पूरी होगी तो बढ़ेंगे रोजगार'

बीएस संवाददाता | लखनऊ Oct 05, 2017 09:48 PM IST

उत्तर प्रदेश में औद्योगिक परियोजनाएं समय पर पूरा होने से रोजगार की संभावनाओं में तेजी से इजाफा हो सकता है। एसोसिएटेड चैंबर ऑफ कामर्स ऐंड इंडस्ट्री (एसोचैम) आज यहां जारी अपनी एक अध्ययन रिपोर्ट 'उत्तर प्रदेश-इकोनॉमिक ग्रोथ ऐंड इन्वेस्टमेंट परफॉर्मेंस एनालिसिस' में यह बात कही। राज्य में इस समय 6 लाख करोड़ रुपये लागत से 606 परियोजनाओं पर काम चल रहा है, जबकि पिछले वित्त वर्ष की समाप्ति तक प्रदेश में 9 लाख करोड़ रुपये मूल्य की 1,050 परियोजनाएं आ चुकी थीं। रिपोर्ट में कहा गया है कि राज्य में अगर मौजूदा जारी परियोजनाओं में अगर 50 प्रतिशत भी समय से पूरी हो जाए तो प्रदेश में बड़ी संख्या में लोगों को प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रोजगार मिल सकते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि आर्थिक प्रगति तथा रोजगार के लिए चल रही परियोजनाएं समय से पूरी की जानी चाहिए। 
 
अध्ययन में कहा गया है कि प्रदेश में इस साल 6 लाख करोड़ रुपये मूल्स से अधिक की 606 परियोजनाएं विभिन्न चरणों में हैं। पिछले कुछ सालों से इन परियोजनाओं को पूरा करने की कोशिश में तेजी जरूर आई है, लेकिन आवश्यक रफ्तार अभी भी नहीं मिल पाई है। एसोचैम के राष्ट्रीय महासचिव डीएस रावत ने बताया कि रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए प्रदेश में चल रहीं सभी परियोजनाएं समय से पूरी होनी चाहिए। 
कीवर्ड uttar pradesh, jobs, asochem,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक