जीएसटी से तार-तार चिकन कारोबार

बीएस संवाददाता | लखनऊ Oct 10, 2017 09:52 PM IST

 

बिक्री मौसम से ठीक पहले अच्छे कारोबार की आस लगाए बैठे लखनऊ के चिकन कारोबारियों को वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) में राहत नहीं मिलने से निराशा हुई है। देश-दुनिया में चिकन कपड़ों का प्रमुख केंद्र माने जाने वाले लखनऊ के कारोबारी जीएसटी में राहत की आस लगाए हुए थे। उनका कहना है कि जीएसटी के आने से कारोबार आधे से भी कम रह गया है वहीं दो लाख से ज्यादा कारीगरों के धंधे पर भी मार पड़ी है।
 
गर्मियों के लिए मुफीद माने जाने वाले चिकन के कपड़ों की बिक्री जनवरी से जून तक चलती है। लखनऊ से बाहर जाने वाले कुल चिकन के कपड़ों की 75 फीसदी बिक्री इसी दौरान होती है। इसके लिए कपड़े की मांग अक्टूबर से ही शुरू हो जाती है और नए ऑर्डर मिलने लगते हैं, लेकिन इस बार जीएसटी के चलते बाजार में सन्नाटा है और चिकन कारोबारियों के पास बाहर के ऑर्डर न के बराबर हैं। पहले किसी भी तरह के कर से मुक्त चिकन परिधान में जहां केंद्र सरकार ने जॉब वर्क पर 5 फीसदी का जीएसटी लगा दिया है, वहीं 1,000 रुपये से अधिक कीमत के कपड़े पर 12 फीसदी कर देना पड़ रहा है। 
 
कारोबारियों का कहना है कि चिकन के ज्यादातर कारीगर गरीब तबके से आते हैं, लिहाजा उनके जॉब वर्क पर 5 फीसदी का जीएसटी उन्हें ही चुकाना पड़ रहा है, जिससे परिधानों की कीमत भी बढ़ गई है। लखनऊ के मशहूर चिकन कारोबारी अजय खन्ना का कहना है कि जुलाई में जीएसटी लगने के बाद से एक भी कारीगर ने जीएसटीएन के लिए पंजीकरण नहीं कराया है। उनका कहना है कि जिन मु_ी भर कारीगरों ने जीएसटीएन के लिए आवेदन किया है उनकी शर्त है कि कर का भुगतान उनसे जॉब वर्क कराने वाले कारोबारी ही देंगे। लखनऊ के पुराने इलाकों, आसपास के गांवों और करीब के जिले हरदोई, सीतापुर में दो लाख के लगभग चिकन कारीगर हैं जिनमें ज्यादातर महिलाए हैं।
 
खन्ना बताते हैं कि ज्यादातर चिकन के व्यापारियों के पास जीएसटीएन तक नहीं है। इसका बड़ा कारण पहले इस धंधे का कर मुक्त होना रहा है। उनके मुताबिक नए नियमों के आ जाने के बाद लखनऊ के कारोबारियों को ऑर्डर देने वाले भी नहीं आ रहे हैं। स्थानीय बाजारों में अपेक्षाकृत कम कीमत पर मिलने वाले चिकन के कपड़े 10 से 15 फीसदी तो 1000 रुपये से ज्यादा कीमत वाले कुरते, लेडीज सूट व साड़ी की कीमत 20 से 25 फीसदी ज्यादा हो गई है। 
कीवर्ड GST, वस्तु एवं सेवा कर, जीएसटी,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक