दिल्ली के पटाखों पर लगी लखनऊ के कारोबारियों की नजर

बीएस संवाददाता | लखनऊ Oct 11, 2017 10:07 PM IST

उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद दिल्ली में पटाखों की बिक्री पर प्रतिबंध के बाद उत्तर प्रदेश के कारोबारियों को अच्छे कारोबार की उम्मीद है। राज्य की राजधानी लखनऊ के पटाखा कारोबारियों ने सस्ते पटाखे उठाने के लिए दिल्ली के पटाखा कारोबारियों से संपर्क साधा है। उनका कहना है कि दिल्ली में पटाखों पर प्रतिबंध के बाद वहां के व्यापारी अपना जमा भंडार सस्ते दामों में निकालेंगे, जिससे लखनऊ में पटाखे सस्ते मिलेंगे और बिक्री भी अच्छी रहेगी। 
 
लखनऊ के व्यापारियों का मानना है कि अगर वे दिल्ली से सस्ते पटाखे खरीदने में कामयाब रहे तो इस बार बिक्री 20 प्रतिशत तक बढ़ सकती है। राजधानी में पिछले साल दीवाली के मौके पर 5 करोड़ रुपये मूल्य के पटाखे बिके थे। पटाखा कारोबारी अहमद जुनैद के मुताबिक इस बार पटाखों पर 28 प्रतिशत जीएसटी लगा है, जिस वजह से लोगों ने इनकी खरीदारी कम की है। जुनैद के अनुसार पहले पटाखों पर 14 प्रतिशत मूल्य वद्र्धित कर (वैट) ही लगता था, लेकिन 1 जुलाई से जीएसटी लागू होने के बाद कर बढ़कर दोगुना हो गया है। इस बीच, न्यायालय के फैसले के खिलाफ दिल्ली के व्यापारियों नें एक बार फिर अपील की है। 
 
राजधानी के पटाखा कारोबारियों की निगाहें इस मामले में अदालत के अगले फैसले पर टिकी हुई हैं। जुनैद के मुताबिक लखनऊ ही नही प्रदेश के अन्य शहरों के कारोबारियों ने भी दिल्ली में पटाखा विक्रेताओं से संपर्क साधा है। राजधानी लखनऊ में जिला प्रशासन ने 15 से 19 अक्टूबर तक 5 दिनों के लिए फुटकर पटाखा बाजार लगाने की अनुमति दी है। मेट्रो का संचालन शुरु हो जाने के चलते कई पुराने स्थानों पर इस बार पटाखा बाजार नही सजेगा। मेट्रो मार्ग परपडऩे वाले कृष्णानगर, आलमबाग, चारबाग, हुसैनगंज, हजरतगंज में पटाखों के बाजार के लिए नए स्थान तलाशे जा रहे हैं। लखनऊ सहित पूरे प्रदेश में में तेज आवाज वाले पटाखों, आतिशबाजी के साथ ही चीनी ब्रंाड और हॉट बैलून की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। अस्पताल, शैक्षिक संस्थानों, न्यायालय व धार्मिक स्थानों के 200 मीटर के दायरे में भी पटाखे चलाने पर रोक लगाई गई है।
कीवर्ड fireworks, delhi, court,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक