नई कार्यकारिणी में पिता-चाचा नहीं

बीएस संवाददाता | लखनऊ Oct 16, 2017 10:17 PM IST

समाजवादी पार्टी में सुलह की खबरों के बीच आज राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपनी कार्यकारिणी की घोषणा कर दी है। लंबे समय से नाराज चल रहे और हाल ही में अखिलेश को आशीर्वाद देकर सुलह कर लेने वाले शिवपाल यादव को नई कार्यकारिणी में जगह नहीं दी गई है। वहीं पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव को भी आधिकारिक तौर पर बतौर संरक्षक शामिल नहीं किया गया है। हालांकि पार्टी में मची रार के दौरान खुल कर अखिलेश का साथ देने वाले रामगोपाल यादव को पार्टी का प्रमुख राष्ट्रीय महासचिव बनाया गया है। हाल ही में बहुजन समाज पार्टी छोड़ कर आए पूर्व मंत्री इंद्रजीत सरोज को राष्ट्रीय महासचिव बनाया गया है। राष्ट्रीय कार्यकारिणी में अधिकतर नाम अखिलेश व रामगोपाल के खास सर्मथकों के ही हैं।
 
गौरतलब है कि पिछले वर्ष नवंबर से शुरू हुए समाजवादी पार्टी में कलह तब थमती नजर आई थी जब मुलायम ने दूसरी पार्टी बनाने से इनकार करते हुए अखिलेश को समर्थन दिया था। इसके बाद 5 नवंबर को आगरा में हुए राष्ट्रीय अधिवेशन में अखिलेश को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने पर बधाई देकर चाचा शिवपाल यादव ने यह साफ कर दिया कि वह भी पार्टी में एकता के पक्षधर हैं। माना जा रहा था कि सुलह के बाद शिवपाल को पार्टी में राष्ट्रीय महासचिव बना कर उन्हें राष्ट्रीय राजनीति में सक्रिय किया जाएगा।
 
राज्यसभा सांसद किरणमय नंदा को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया है जबकि रामगोपाल यादव को प्रमुख महासचिव का पद दिया गया है। आजम खान, नरेश अग्रवाल, रविप्रकाश वर्मा, बलराम यादव, सुरेंद्र नागर, विशंभर निषाद, अवधेश प्रसाद, इंद्रजीत सरोज, रामजीलाल सुमन व रामशंकर विद्यार्थी को महासचिव बनाया गया है। जाने माने बिल्डर व राज्यसभा सदस्य संजय सेठ को पार्टी का राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष बनाया गया है।
कीवर्ड uttar pradesh, akhilesh yadav, mulayam singh yadav,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक