हुक्का वाले बार, होटल और रेस्टोरेंट के लाइसेंस होंगे रद्द!

बीएस संवाददाता | नई दिल्ली Oct 31, 2017 10:14 PM IST

दिल्ली सरकार धूम्रपान व गैर धूम्रपान क्षेत्रों में हुक्का पाबंदी पर सख्त

पुलिस, निगमों को हुक्का वाले रेस्टोरेंट, होटल के लाइसेंस रद्द करने को कहा

दिल्ली के हुक्का बार और हुक्का वाले रेस्टोरेंटों, होटलों व खान-पान स्थल के लाइसेंस निरस्त हो सकते हैं। दिल्ली सरकार ने दिल्ली में गैर धूम्रपान व धूम्रपान वाले क्षेत्रों में हुक्का पीने की अनुमति नहीं देने के मामले में सख्ती करने का निर्णय लिया है। इस बीच दिल्ली के उद्यमियों ने उच्चतम न्यायालय द्वारा कोयला और फर्नेस ऑयल के इस्तेमाल पर 1 नवंबर से रोक के संदर्भ में और वक्त देने के लिए याचिका दायर की। शीर्ष अदालत उद्यमियों की याचिका पर 6 नवंबर को सुनवाई करेगा।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन कहा कि सिगरेट व अन्य तंबाकू उत्पाद अधिनियम के खंड 4 के अनुसार गैर धूम्रपान क्षेत्र में हुक्का पीने की अनुमति नहीं है। स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी 23 मई, 2017 की अधिसूचना धूम्रपान क्षेत्र में भी हुक्का पीने को पूरी तरह प्रतिबंधित करती है। इसलिए किसी भी रूप में हुक्का पीना गैर-कानूनी है।

लिहाजा, दिल्ली पुलिस व नगर निगमों को ऐसे रेस्टोरेंटों, होटलों और खान-पान स्थलों के लाइसेंस तुरंत निरस्त कर देने चाहिए, जहां गैर कानूनी रूप से हुक्का सेवन की व्यवस्था है। जैन ने कहा कि राज्य तंबाकू नियंत्रण प्रकोष्ठï ने दिल्ली के विभिन्न हिस्सों में कई छापे मारे और उठाए गए नमूनों के रासायनिक विश्लेषण ने लगभग सभी नमूनों में निकोटिन पाया गया  जबकि इनके हर्बल होने का दावा किया गया था।

रोग नियंत्रण व रोकथाम केंद्र के अनुसार एक घंटे तक हुक्का पीना सिगरेट के 200 कश लगाने के बराबर होता है। उद्योग सूत्रों के मुताबिक दिल्ली में ऐसे बार, रेस्टोरेंट और होटल की संख्या 400-500 हो सकती है, जिनमें हुक्का सेवन किया जाता है। ऐसे हुक्का बार मुख्य रूप से हौज खास, राजौरी गार्डन, कनॉट प्लेस, ग्रेटर कैलाश, जनकपुरी और डिफेंस कॉलोनी में हैं।

कीवर्ड Delhi, हुक्का बार, restorent,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक