बिहार में बनेगी डेढ़ हजार किलोमीटर सड़कें

बीएस संवाददाता | पटना Nov 22, 2017 09:44 PM IST

केंद्र सरकार की महत्त्वाकांक्षी 'भारतमाला' परियोजना के तहत बिहार में करीब डेढ़ हजार किलोमीटर लंबी सड़क का निर्माण होगा। इससे राज्य के सभी अहम जिले 4 लेन सड़कों से जुड़ जाएंगे। इसके अलावा राज्य सरकार ने अपनी सड़कों की गुणवत्ता भी सुधारने का फैसला किया है।  राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को पथ निर्माण विभाग के काम-काज की समीक्षा की। इस समीक्षा में नीतीश के साथ उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव, मुख्य सचिव और अन्य वरिष्ठ अधिकारी शामिल थे। बैठक के बाद विभाग के प्रधान सचिव अमृत लाल मीणा ने बताया, 'इस बैठक में मुख्यमंत्री ने विभाग के कामकाज का जायजा लिया। इस बैठक में केंद्र सरकार प्रायोजित योजनाओं के साथ-साथ राज्य सरकार की परियोजना पर भी विस्तार से चर्चा हुई। इसमें भारतमाला परियोजना पर खास तौर पर लंबी चर्चा हुई। इस परियोजना के तहत पूरे देश में करीब 35,000 किलोमीटर सड़कों का निर्माण होना है। इनमें 1,432 किमी सड़कों का निर्माण बिहार में होगा। इस योजना के तहत मोहनया, आरा, रजौली, बख्तियारपुर, पटना, सासाराम औरंगाबाद, दरभंगा और पटना-हाजीपुर-मुजफ्फ रपुर सहित कई अहम इलाकों के बीच सड़क निर्माण की योजना है।
 
इस परियोजना के तहत राज्य के सभी अहम हिस्से अगले पांच वर्षो में 4 लेन सड़कों से जुड़ जाएंगे। बैठक में इस पूरी परियोजना के बारे में मुख्यमंत्री के सामने विस्तृत प्रस्तुतिकरण दिया गया। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने विभाग को सड़कों के बेहतर रख-रखाव का भी आदेश दिया। बैठक में मुख्यमंत्री ने सभी राज्य राजमार्गों और मुख्य जिला सड़कों को राज्य सरकार की रखरखाव नीति में शामिल करने का भी आदेश विभाग को दिया। 
 
उन्होंने कहा, 'विभाग को राज्य सरकार की सड़कों की स्थिति की खास तौर पर समय-समय पर समीक्षा करनी चाहिए। वहीं, हमें अपनी सड़कों के रख-रखाव पर भी पूरा ध्यान देना होगा। इससे जनता के आवागमन में सुविधा होगी।' राज्य सरकार की रखरखाव नीति के तहत इन सड़कों को बनाने वालों को ही कम से कम 5 साल तक सड़कों का रख-रखाव करना होता है। जो सड़कें पहले बन चुकी हैं, उनके लिए राज्य सरकार अलग से निविदाएं आमंत्रित करती हैं। 
कीवर्ड road, NHAI, bharatmala, bihar, बिहार, सरकार,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक