शराबबंदी से आया बदलाव: नीतीश

बीएस संवाददाता | पटना Nov 26, 2017 09:42 PM IST

बिहार  के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शराबबंदी में किसी प्रकार की रियायत से साफ  इनकार किया है। उनके मुताबिक इस कदम से राज्य में सामाजिक बदलाव आया है। साथ ही, उन्होंने पुलिस को शराब कारोबारियों से सख्ती से निपटने को कहा।  उन्होंने कहा कि शराबबंदी से राज्य में घरेलू हिंसा में कमी आई है और लोगों का जीवन स्तर सुधरा है। उत्पाद विभाग के नशामुक्ति दिवस समारोह के मौके पर उन्होंने रविवार को पटना के अधिवेशन भवन में कहा, 'दहेजबंदी और बाल-विवाह के खिलाफ हमारे सशक्त अभियान के बाद कुछ लोग कह रहे हैं कि सरकार शराबबंदी से पीछे हट रही है। उन्हें समझ लेना चाहिए कि हम पीछे नहीं हटेंगे। समाज सेवा का काम करने पर कुछ लोग मजाक भी उड़ा रहे हैं, लेकिन हम पीछे हटने वाले नहीं हैं।' उन्होंने कहा कि बिहार में मजबूती से शराबबंदी कानून लागू किया गया है और इसका परिणाम भी सभी के सामने है। नीतीश ने कहा कि इससे राज्य में घरेलू हिंसा में कमी आई है। उन्होंने कहा कि शराबबंदी के पहले 79 फीसदी महिलाओं के साथ मानसिक हिंसा होती थी, जो अब घटकर 11 फीसदी रह गई है, वहीं शारीरिक हिंसा 54 फीसदी से घटकर 5 फीसदी रह गई है। 
 
मुख्यमंत्री के मुताबिक अब जीवन-शैली में भी सुधार आया है। उन्होंने कहा कि शराबबंदी के बाद राज्य में एक परिवार अब हर हफ्ते औसतन 1,331 रुपये खान-पान पर खर्च करता था, जो शराबबंदी के पहले 1,005 रुपये था। राज्य सरकार मुताबिक शराब पर प्रतिबंध की वजह से अब पुरुष खेती पर 43 प्रतिशत अधिक समय देते हैं जबकि जबकि महिलाएं 84 प्रतिशत अधिक समय की बचत करने लगी हैं।
कीवर्ड bihar, बिहार, सरकार, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक