निकाय चुनावों में लहराया भगवा

बीएस संवाददाता | लखनऊ Dec 01, 2017 09:35 PM IST

उत्तर प्रदेश के स्थानीय निकाय चुनावों में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में अपना झंडा बुलंद किया है। पार्टी ने राज्य के अधिकांश नगर निगमों में जीत हासिल की है, वहीं नगर पालिकाओं और नगर पंचायतों में भी उसे बड़ी सफलता मिली है। स्थानीय निकाय चुनावों में पहली बार हिस्सा ले रही बहुजन समाज पार्टी ने सबसे बड़े विपक्षी दल के रूप में उभरने में सफलता पाई है। बसपा ने मेयर के दो पदों पर जीत हासिल की है। 
 
आदित्यनाथ ने निकाय चुनावों को बड़ी परीक्षा की तरह लेते हुए सघन प्रचार अभियान का नेतृत्व किया था और पूरे राज्य में करीब 40 जनसभाएं की थीं। राज्य के कुल 16 नगर निगमों में से भाजपा को 14 पर जीत मिली है जो अब तक का रिकॉर्ड है। नवगठित 3 नगर निगमों अयोध्या, सहारनपुर और मथुरा में भी भाजपा ने मेयर का चुनाव जीता है। केवल अलीगढ़ और मेरठ नगर निगमों में उसे बसपा उम्मीदवारों से शिकस्त मिली है। 198 नगर पालिकाओं में से 100 पर भाजपा के उम्मीदवार अध्यक्ष चुने गए हैं जबकि 437 नगर पंचायतों में से 137 पर उसके प्रत्याशियों ने अध्यक्ष पद पर जीत हासिल की है।
 
नतीजों से उत्साहित मुख्यमंत्री ने कांग्रेस और उसके उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि गुजरात जीतने का सपना देखने वाले अपने घर अमेठी में हार नहीं बचा पाए। उन्होंने कहा कि निकाय चुनावों में भारी जीत भाजपा की विकास की राजनीति पर जनता की मुहर है। बसपा ने समाजवादी पार्टी व कांग्रेस को काफी पीछे छोड़ते हुए नगर पंचायतों में भाजपा को कड़ी टक्कर दी है। नगर पंचायत अध्यक्ष की कुल 437 सीटों में से पार्टी को 108 में जीत मिली है जबकि भाजपा के खाते में 137 और सपा को 60 सीटों पर सफलता मिली है। नगर पालिका अध्यक्ष पद पर भी बसपा ने 197 सीटों में से 42 सीटें जीत कर जबरदस्त उपस्थिति दर्ज कराई है जबकि सपा केवल 20 पर ही सफल हो पाई। कांग्रेस नगर निगमों में एक भी सीट नहीं मिली है। केवल 6 नगर पालिकाओं और 14 नगर पंचायतों में उसके अध्यक्ष निर्वाचित हुए हैं।
कीवर्ड uttar pradesh, election,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक