पंजाब के साइकिल उद्योग को जापान का साथ

बीएस संवाददाता | लुधियाना Dec 05, 2017 09:44 PM IST

भारत के पहले बुलेट ट्रेन में तकनीकी मदद करने के बाद जापान ने अब पंजाब के साइकिल उद्योग की ओर मदद का हाथ बढ़ाया है। साइकिल उद्योग का संगठन एआईसीएम के सभी आठ सदस्यों के साथ हुई बैठक में पंजाब के उद्योग एवं वाणिज्य विभाग के निदेशक डीपीएस खरबंदा ने कहा, 'चीन के साइकिल उद्योग से मिल रही चुनौती से मुकाबला करने के लिए जापान भारत के साथ मिलाने को तैयार है।' यह बैठक साइकिल उद्योग की समस्याओं को जानने और उद्योग की बेहतरी के उपाय तलाशने के लिए बुलाई गई थी।
 
नंबवर में आधिकारिक दौरे पर जापान गए खरबंदा ने कहा कि जापान का साइकिल उद्योग भारत में अत्याधुलिक तकनीक हस्तांतरित करने और देश में निवेश करने को तैयार है। उन्होंने कहा कि जापानी निवेशक पूर्वी लुधियाना में धननाशु  साइकिल वैली परियोजना में भी निवेश को इच्छुक हैं। उनके अनुसार पैनासोनिक और जापान मैनेजमेंट एसोसिएशन आदि लुधियाना के साइकिल विनिर्माताओं के साथ ई-साइकिल तकनीक को साझा करने के लिए तैयार है।
 
खरबंदा ने कहा कि जापानी सलाहकार जनवरी या फरवरी में लुधियाना के साइकिल उद्योग का दौरा करेंगे और स्थानीय उद्योग के विकास पर चर्चा करेंगे। जापानी साअकिल उद्योग का साथ मिलने से भारतीय साइकिल उद्योग चीन से मिल रही कड़ी प्रतिस्पर्धा को चुनौती देने में सक्षम होगा।  उद्यमियों ने बताया कि भारत हर साल करीब 1.5 करोड़ साइकिलों का उत्पादन करता है, वहीं चीन में 9 करोड़ साइकिल का उत्पादन होता है। देश में कुल साइकिल उद्योग का करीब 80 फीसदी पंजाब में है। खरबंदा ने कहा कि साइकिल उद्योग के लिए 18 लाख डॉलर की लागत से शोध एवं विकास केंद्र बनाया जा रहा है
कीवर्ड panjab, japan, bullet train,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक