कच्चे माल व तैयार उत्पाद एक ही कर श्रेणी में हों

बीएस संवाददाता | नई दिल्ली Dec 07, 2017 02:43 PM IST

जीएसटी पर गठित लॉ पैनल ने राजस्व सचिव को सौंपी रिपोर्ट

आयुक्‍त के आदेश व विश्वसनीय सूचना पर छापेमारी, सबको तिमाही रिटर्न का सुझाव
पैनल ने की 2019 तक ई-वे बिल टालने, इनवॉइस में एचएसएन कोड हटाने, सेवा प्रदाता को कंपोजीशन का लाभ आदि की सिफारिशें
जीएसटी अनुपालन में उद्योग की दिक्कतों को दूर करने के लिए गठित छह सदस्यीय जीएसटी लॉ पैनल ने अपनी रिपोर्ट राजस्व सचिव को सौंप दी है। जिसमें पैनल ने जीएसटी कानून में 100 से अधिक अहम बदलाव के सुझाव दिए हैं। इनमें कच्चे माल व तैयार उत्पाद को एक ही कर श्रेणी में रखने, सभी के लिए तिमाही रिटर्न, विश्वसनीय सूचना पर ही छापेमारी, समान माह में आईटीसी जारी करने, ई-वे बिल टालने आदि शामिल हैं।

इस पैनल में कारोबारी प्रतिनिधित्व के तौर पर सदस्य प्रवीन खंडेलवाल ने बताया कि पैनल ने राजस्व सचिव को सौंपी रिपोर्ट में कहा है कि उत्पादों का वर्गीकरण ऐसा होना चाहिए कि कच्चा माल व तैयार उत्पाद एक ही श्रेणी में हो। इससे रिफंड मिलने में तेजी आएगी। रिपोर्ट में ई-वे बिल को वर्ष 2019 तक टालने व इसके स्थान पर दूसरा विकल्प लाने, रिवर्स चार्ज मेकेनिज्म खत्म करने, फार्म 3 बी को कम से कम एक साल और जारी रखने के साथ आसान रिटर्न दाखिल करने के लिए इनवॉइस में एचएसएन कोड की बाध्यता खत्म करने की सिफारिश की गई है। छूट व शून्य कर वाली वस्तुओं का कारोबार कुल टर्नओवर में नहीं गिना जाना चाहिए। पैनल ने सभी जॉब वर्क को 5 फीसदी कर दायरे में रखने, सेवा प्रदाताओं को कंपोजीशन योजना का लाभ देने, छापेमारी व छानबीन विश्वसनीय सूचना पर आयुक्‍त के आदेश पर ही करने आदि की सिफारिशें की गई हैं।

इसके अलावा कंपोजीशन योजना में अंतरराज्यीय लेन-देन को शामिल करने के साथ कारोबारी, निर्माता व रेस्तरां पर एक फीसदी जीएसटी दर, स्वत: रिफंड मिलने की व्यवस्था, सभी तरह के रिटर्न के स्थान पर एक समेकित रिटर्न और हर माह कर भुगतान के साथ सभी के लिए तिमाही रिटर्न व्यवस्था करने का सुझाव दिया गया है। साथ ही रिटर्न प्रक्रिया सरल व तर्कसंगत बनाना और आईटीसी दावे को उसी महीने में जारी करने की भी सिफारिश की गई है। हालांकि मिलान व समायोजन बाद में किया जा सकता है। खंडेलवाल ने कहा पैनल को रिटर्न, ई-वे बिल, आईटीसी, निर्यात समेत अन्य समस्याओं पर उद्योग से 700 से अधिक प्रजेंटेशन मिले थे।

कीवर्ड कच्चा माल, उत्पाद, कर श्रेणी, जीएसटी, राजस्व, रिपोर्ट, ई-वे बिल,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक