मध्य प्रदेश में सोलर पार्क की स्थापना करेगी महिंद्रा

टी ई नरसिम्हन | चेन्नई Jan 10, 2018 10:03 PM IST

12.8 अरब डॉलर की लागत का अनुमान

 

महिंद्रा सस्टेन प्राइवेट लिमिटेड की पूर्ण नियंत्रित अनुषंगी इकाई महिंद्रा रीन्यूएबल्स प्राइवेट लिमिटेड (एमआरपीएल) मध्य प्रदेश में एक सोलर पार्क की स्थापना करेगी। इस परियोजना के लिए इंटरनैशनल फाइनैंस कॉर्पोरेशन (आईएफसी) भी सहयोग देगा। इस परियोजना पर करीब 12.8 अरब डॉलर की लागत आने का अनुमान है। इनमें आईएफसी 3.2 अरब डॉलर का ऋण मुहैया कराएगा और अन्य कर्जदाताओं से 6.4 अरब डॉलर रकम जुटाने में भी मदद करेगा। आईएफसी से प्राप्त रकम का इस्तेमाल कंपनी परियोजना के निर्माण के लिए करेगी।

एमआरपीएल को राज्य के रीवा जिले में 750 मेगावॉट रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर पार्क में 250 मेगावॉटएसी सोलर पावर परियोजना आवंटित की गई है। परियोजना का विकास एमआरपीएल करेगी। सोलर पार्र्क का विकास रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर लिमिटेड (आरयूएमएसएल) द्वारा किया जा रहा है। आरयूएमएसएल मध्य प्रदेश ऊर्जा विकास निगम लिमिटेड और सोलर एनर्जी कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (एसईसीआई) के बीच संयुक्त उद्यम है। यह परियोजना 2018 तक पूरा होने की उम्मीद है। इस परियोजना से मध्य प्रदेश पावर मैनेजमेंट कंपनी लिमिटेड (एमपीपीएमसीएल) और दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन (डीएमआरसी) ऊर्जा खरीदेगी। 

मध्य प्रदेश सरकार ने इस सौदे के लिए आईएफसी को एक प्रमुख सलाहकार के तौर पर रखा है। राज्य सरकार रीवा सोलर प्रोजेक्ट के लिए संपूर्ण निजी निवेश लाने में मदद करेगी। आईएफसी ने कहा कि वह स्थानीय मुद्रा में दीर्घ अवधि का ऋण देगी। यह परियोजना के लिए अतिरिक्त धन जुटाने में भी मदद करेगा। आईएफसी परियोजना के लिए कर्ज का एक बड़ा हिस्सा उपलब्ध कराएगी। आईएफसी को वैश्विक स्तर पर अक्षय ऊर्जा परियोजनाओं के लिए वित्त मुहैया करने का भी अनुभव है, इसलिए इस परियोजना को भी इसका लाभ मिलेगा। सोलर पार्क समान रूप से तीन हिस्सों में विभाजित है, जिनमें प्रत्येक में 250 मेगावॉटएसी क्षमता वाला सोलर पावर प्लांट होगा।
कीवर्ड power, electric, solar, mahindra,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक