राणा गुरजीत के इस्तीफे पर अभी अंतिम निर्णय नहीं

राजीव भास्कर | जालंधर Jan 16, 2018 10:02 PM IST

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज बताया कि ऊर्जा एवं सिंचाई मंत्री राणा गुरजीत सिंह ने 4 जनवरी को अपना इस्तीफा उन्हें सौंप दिया है, लेकिन अभी उसे स्वीकार करने पर कोई निर्णय नहीं हुआ है। मुख्यमंत्री ने कहा, 'राणा ने 4 जनवरी को अपना इस्तीफा सौंपा था लेकिन अभी इसे स्वीकार नहीं किया गया है और कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ प्रस्तवित बैठक के बाद ही इस बारे में अंतिम निर्णय लिया जाएगा।' समझा जाता है कि राहुल से 18 जनवरी को प्रस्तावित बैठक से पहले कांग्रेस के वरिष्ठï नेता सुनील जाखड़, हरीश चौधरी और आशा कुमारी मुख्यमंत्री के साथ बैठक कर राणा गुरजीत सिंह के मसले पर चर्चा करेंगे। अगर राणा गुरजीत का इस्तीफा स्वीकार किया जाता है तो पंजाब मंत्रिमंडल में जल्द ही फेरबदल हो सकता है। सूत्रों ने कहा कि राणा के इस्तीफे और पंजाब मंत्रिमंडल में फेरबदल का निर्णय राहुल गांधी से मुलाकात के बाद लिया जा सकता है। इस बीच, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने भी स्वीकार किया कि राणा गुरजीत सिंह ने अपना इस्तीफा सौंपा है, लेकिन उन्होंने यह स्पष्टï नहीं किया कि राणा ने लिखित में इस्तीफा दिया है या फिर मौखित तौर पर ऐसा कहा है। ठुकराल ने कहा कि यह इस्तीफा राणा गुरजीत सिंह के पूर्व कर्मचारी को रेत खदान आवंटन के बारे में मीडिया खबरों से संबंधित है और उन्होंने इस्तीफे के पीछे किसी तरह के राजनीतिक दबाव की बात से इनकार किया।

 
विपक्ष के नेता सुखपाल खैरा लगातार राणा गुरजीत पर रेत खदान आवंटन को लेकर आक्रामक रहे हैं। उन्होंने यह आरोप भी लगाया है कि सिंचाई घोटाले के मुख्य अरोपी और ठेकेदार गुरिंदर सिंह ने राणा को रेत खदान आवंटन के लिए 5 करोड़ रुपये दिए हैं। राज्य सरकार ने पिछले साल मई में खनन विभाग द्वारा की गई रेत खनन नीलामी में राणा गुरजित सिंह पर लगे आरोपों की जांच के लिए न्यायमूर्ति जे एम नारंग आयोग का गठन भी किया था। आयोग को कई करोड़ की रेत खनन नीलामी में सिंचाई एवं बिजली मंत्री के खिलाफ लगे अनुचित व्यवहार के आरोपों के सभी पहलुओं की जांच करने का आदेश था। मंत्री ने दावा किया है कि नीलामी में कुछ भी गलत नहीं  किया गया है। इस बीच, एक अन्य मामले में मंत्री के बेटे राणा इंद्र प्रताप सिंह को भी प्रवर्तन निदेशालय ने 17 जनवरी पेश होने के लिए समन जारी किया था। 
कीवर्ड panjab, मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक