खतरे में कॉलेज की मान्यता

बीएस संवाददाता | जगदलपुर Jan 18, 2018 09:51 PM IST

छत्तीसगढ़ के आदिवासी बहुल बस्तर संभाग मुख्यालय में तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में दशकों से संचालित सरकारी इंजीनियरिंग कॉलेज (जीईसी) की राष्ट्रीय मान्यता बोर्ड (एनबीए) मान्यता पर खतरा मंडरा रहे है। सूत्रों के मुताबिक एनबीए ने वर्ष 2018 तक सभी प्रौद्योगिकी कॉलेजों को मान्यता प्राप्त करने के निर्देश दिये थे। इसे अब वर्ष 2022 तक बढ़ा दिया गया है लेकिन जीईसी के 6 विभागों में से एक में भी इसके लिए अर्हताएं पूरी करने की स्थिति नहीं बन पा रही है। जिन विभागों को मान्यता नहीं मिलेगी, उन्हें बंद करना पड़ेगा। मानक पूरे करने की दिशा में राज्य सरकार लंबे समय से उदासीन बनी हुई है और कॉलेज में कई पद खाली हैं। एनबीए मान्यता के लिए कुल 1,000 अंक निर्धारित किए गए हैं और कम से कम 600 अंक हासिल करने वाली संस्थाओं को ही मान्यता मिलेगी। जीईसी में फिलहाल 6 विभाग चल रहे हैं। इनमें सिविल इंजीनियरिंग, मैकेनिकल इंजीनियरिंग, माइनिंग इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रॉनिक्स ऐंड टेलीकम्युनिकेशन इंजीनियरिंग, इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी और इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग शामिल है। स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग, सिविल, थर्मल और मैकेनिकल इंजीनियरिंग संचालित हैं। 
कीवर्ड bastar, collage,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक