भावांतर योजना: रबी का पंजीयन 12 फरवरी से

बीएस संवाददाता | भोपाल Feb 06, 2018 09:50 PM IST

किसानों को फसल का उचित मूल्य दिलाने के लिए शुरू की गई भावांतर भुगतान योजना के तहत रबी की फसलों के लिए किसानों के पंजीयन की प्रक्रिया 12 फरवरी से शुरू होगी। प्रदेश सरकार यह काम 3,500 प्राथमिक कृषि सहकारी समितियों के माध्यम से करेगी। कृषि विभाग के प्रमुख सचिव डॉ. राजेश राजौरा ने बताया कि पंजीयन को लेकर खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग तथा कृषि विपणन बोर्ड के प्रबंध संचालक को विस्तृत दिशानिर्देश जारी किए गए हैं।  रबी 2017-18 में राज्य सरकार ने चना, सरसों, मसूर और प्याज को भावांतर योजना में शामिल किया है। प्रदेश के किसानों को मंडियों में होने वाले कीमतों के बदलाव से सुरक्षा देने के लिए राज्य सरकार ने पिछले खरीफ सत्र में भावांतर भुगतान योजना की शुरुआत की थी। योजना के पहले चरण में 1.28 लाख किसानों को 136.75 करोड़ रुपये की राशि का भुगतान किया गया, जबकि दूसरे चरण में 704 करोड़ रुपये का भुगतान होना है। 
 
इस योजना के तहत किसानों को अगर मंडी में उपज के कम दाम मिलते हैं तो उन्हें न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) या औसत आदर्श मूल्य और मंडी की दरों के बीच के अंतर का भुगतान राज्य सरकार सीधे खाते में करती है।  हालांकि विशेषज्ञ इस योजना में खामियां भी गिनाते रहे हैं। यह योजना एक खास अवधि के लिए लागू होती है और पंजीकृत किसानों को इसका लाभ लेने के लिए तय अवधि में उपज बेचना अनिवार्य है। सरकार पूरी उपज के बजाय अभी केवल निर्धारित मात्रा में खरीद का ही भुगतान कर रही है।
कीवर्ड bhawantar, madhya pradesh,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक