कांग्रेस विधायकों ने किया छत्तीसगढ़ में बहिर्गमन

एजेंसियां | रायपुर Feb 08, 2018 09:51 PM IST

छत्तीसगढ़ विधानसभा में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस के सदस्यों ने राज्य पुलिस पर अपराधियों के खिलाफ समय पर कार्रवाई नहीं करने और आरोपपत्र दाखिल करने की प्रक्रिया में देरी का आरोप लगाते हुए आज सदन से बहिर्गमन किया। प्रश्नकाल के दौरान सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक अवधेश सिंह चंदेल ने जानना चाहा कि उनके विधानसभा क्षेत्र बेमताड़ा में विगत तीन वर्षों के दौरान कुल कितने आपराधिक मामले पंजीकृत किए गए।  उन्होंने राज्य सरकार से उन मामलों की संख्या बताने को कहा जिनमें अदालत में आरोपपत्र दाखिल किया गया है और साथ ही यह भी पूछा कि लंबित मामलों में कार्रवाई करने की समयसीमा क्या है। 
 
जवाब में गृह मंत्री रामसेवक पैकरा ने सदन को बताया कि बेमताड़ा में बीते तीन साल के दौरान हत्या, लूट, चोरी, डकैती, बलात्कार, धोखाधड़ी, चैन स्नैचिंग और सेंधमारी के कुल 369 मामले दर्ज किए गए और इनमें से 164 मामलों में आरोपपत्र अदालत में दाखिल किए गए हैं। अलबत्ता उन्होंने कहा कि यह बताना संभव नहीं है कि बाकी 205 मामलों में कब तक कार्रवाई होगी।  मंत्री के जवाब के बाद कांग्रेस के सत्यनारारयण शर्मा, संतराम नेताम, मोहन मकराम और दूसरे सदस्यों ने आरोप लगाया कि पुलिस कार्रवाई करने में बहुत देर लगाती है और पूरे राज्य में कई मामलों में आरोपपत्र दाखिल करने की प्रक्रिया लंबित है। संतराम नेताम ने कहा कि उन्होंने खुद 2015 में एक मामले की प्राथमिकी दर्ज कराई थी लेकिन उस पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। पैकरा ने कहा कि पुलिस जांच पूरी होने के बाद ही किसी मामले में आगे की कार्रवाई करती है। कांग्रेस के सदस्य उनके जवाब से संतुष्टï नहीं हुए और उन्होंने सदन से बहिर्गमन किया।
कीवर्ड chattisgarh, BJP, congress,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक