बालको-वेदांत अस्पताल के पक्ष में छत्तीसगढ़ सरकार

आर कृष्णा दास | रायपुर Feb 12, 2018 09:49 PM IST

लंदन में सूचीबद्घ वेदांत रिसार्सेस की सहायक इकाई भारत एल्युमीनियम कंपनी लिमिटेड (बालको) की आगामी कैंसर अस्पताल परियोजना के मसले पर छत्तीसगढ़ सरकार ने कंपनी का पक्ष लिया है।  बालको में वेदांत रिसोर्सेस की 51 फीसदी हिस्सेदारी है और कंपनी छत्तीसगढ़ की नई राजधानी नया रायपुर में कैंसर हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेंटर शुरू करने जा रही है। इस अस्पातल के बनने से छत्तीसगढ़ और मध्य भारत के लोगों को उपचार की सुविधा उपलब्ध होगी। इस अस्पताल परियोजना का क्रियान्वयन वेदांत और बालको का गैर-लाभकारी संगठन वेदांत मेडिकल रिसर्च फाउंडेशन (वीएमआरएफ) द्वारा किया जा रहा है।

 
यह परियोजना सार्वजनिक-निजी साझेदारी का हिस्सा है। वीएमआरएफ ने छत्तीसगढ़ सरकार के साथ समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं। इसके लिए राज्य सरकार की ओर से मामूली दाम पर 50 एकड़ जमीन मुहैया कराई गई है। इस अस्पताल में मरीजों को उच्च स्तरीय चिकित्सा, सर्जरी एवं रेडिएशन सुविधाएं किफायती दर पर उपलब्ध कराई जाएंगी। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर ने छत्तीसगढ़ विधानसभा में कहा, 'यह सच नहीं है कि वीएमआरएफ ने कोई और वजह बताई है और परियोजना में बेवजह देरी कर रही है। सच तो यह है कि परियोजना में देरी तकनीकी वजहों से हो रही है।' 
 
विपक्षी सदस्यों ने यह मामला उठाया था और कहा था कि परियोजना को 2015 में पूरा हो जाना चाहिए था। चंद्राकर ने कहा कि परियोजना को पूरा करने के लिए 2015 की कोई समयसीमा तय नहीं की गई थी। तकनीकी समस्या के कारण परियोजना में देरी हुई।
कीवर्ड vedanta, hindalco, aluminium,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक